महाराष्ट्र. राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) मानहानी केस में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर मंगलवार को आरोप तय हुए. महाराष्ट्र की भिवंडी कोर्ट ने धारा 499, 500 के तहत आरोप तय किे हैं. बता दें कि आरएसएस कार्यकर्ता राजेश कुंते ने इस मामले में आपराधिक मानहानि का केस दर्ज किया था. वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि मैं बेकसूर हूं.

कोर्ट ने साल 2014 में आरएसएस कार्यकर्ता राजेश कुंते द्वारा दायर मानहानि के एक मामले में बयान दर्ज कराने के लिए राहुल को अदालत में पेश होने का दो मई को आदेश दिया था. कुंते ने एक चुनावी रैली में राहुल गांधी का भाषण देखने के बाद मुकदमा दायर किया था. अपने भाषण में राहुल ने कहा था कि महात्मा गांधी की हत्या के पीछे आरएसएस का हाथ था. महाराष्ट्र के दो दिन के दौरे में राहुल बृहन्मुंबई महानगरपालिका में पार्टी कार्यकर्ताओं और पार्षदों को संबोधित कर सकते हैं.

कोर्ट ने 10 जून को राहुल गांधी की अप्लिकेशन पर तर्क सुने थे. कोर्ट ने समरी ट्रॉयल के अलावा साक्ष्यों की विस्तृत रिकॉर्डिंग चाही थी और 12 जून तक के लिए अदालत की कार्यवाही स्थगित कर दी थी. कोर्ट ने कहा था कि अदालत 12 जून को अप्लिकेशन पर एक ऑर्डर पारित करेगी और प्रतिवादी (राहुल गांधी) की याचिका को भी रिकॉर्ड किया जाएगा और वे इस दिन अदालत में पेश रहें.

बता दें कि राहुल गांधी ने 7 जुलाई 2014 को भिवंडी में आयोजित रैली में कहा था कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के लोगों ने महात्मा गांधी ने हत्या की थी. इसके बाद यहां संघ के एक कार्यकर्ता ने राजेश कुंटे ने 6 मार्च 2014 को मानहानि की धाराओं के तहत राहुल गांधी के खिलाफ केस दर्ज कराया था.