नई दिल्ली. कर्नाटक चुनाव के परिणाम आने के बाद जारी सियासी उथल-पुथल के बीच बीती रात कांग्रेस और जेडीएस ने अपने विधायकों को भाजपा की ‘खरीद-फरोख्त’ से बचाने के लिए बस से पड़ोसी राज्यों में भेजा. जानकारों के अनुसार इन विधायकों को पड़ोसी राज्य केरल के कोच्चि और आंध्रप्रदेश के हैदराबाद भेजा गया. इससे पहले दोनों पार्टियां चार्टर्ड फ्लाइट से विधायकों को भेजने वाली थीं. लेकिन नागर विमानन निदेशालय से अनुमति नहीं मिलने के कारण HAL एयरपोर्ट से फ्लाइट को उड़ान नहीं भरने दिया गया. इस कारण विधायकों को बेंगलुरु के ईगल्टन रिसॉर्ट से बस से ले जाया गया. कांग्रेस के विधायकों ने आरोप लगाया कि नागर विमानन निदेशालय (डीजीसीए) ने अनाधिकारिक रूप से चार्टर्ड फ्लाइट को उड़ान भरने की अनुमति नहीं दी. कांग्रेस के एक विधायक ने आरोप लगाया कि डीजीसीए एक स्वतंत्र संस्था है, उस पर सवाल नहीं उठाया जा सकता, लेकिन यह भाजपा ही है जिसने गैरकानूनी रूप से विधायकों की फ्लाइट को बाधित किया.

रिसॉर्ट की सुरक्षा हटाने के बाद विधायकों को फिर से प्रलोभन का आरोप

डीजीसीए ने विधायकों के आरोप को किया खारिज
कर्नाटक के सियासी हालात के मद्देनजर कांग्रेस विधायकों के डीजीसीए पर लगाए गए आरोपों को संस्था के अधिकारी ने खारिज किया. डीजीसीए के वरिष्ठ अधिकारी ने टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में कहा, ‘देश के भीतर चार्टर्ड विमानों को उड़ान भरने के लिए डीजीसीए से अनुमति की जरूरत नहीं होती. इसलिए यह कहना कि चार्टर्ड फ्लाइट को उड़ान भरने की अनुमति नहीं दी गई, सही नहीं है. इधर, जेडीएस के एक विधान पार्षद ने इस घटनाक्रम के लिए केंद्र की भाजपा सरकार को जिम्मेदार ठहराया है. अखबार से बातचीत करते हुए जेडीएस के एमएलसी रमेश बाबू ने कहा, ‘केंद्र की भाजपा सरकार, शासन तंत्र का मनमाना इस्तेमाल कर इसका दुरुपयोग कर रही है.’

ईगल्टन रिसॉर्ट की सुरक्षा हटने के बाद बनी यह स्थिति
नव-निर्वाचित विधायकों को खरीद-फरोख्त से बचाने के लिए कांग्रेस और जेडीएस ने सभी लोगों को कांग्रेस नेता डी.के. शिवकुमार के बेंगलुरू से 30 किलोमीटर दूर स्थित बिदाड़ी स्थित ईगल्टन रिसॉर्ट में ठहराया था. लेकिन मुख्यमंत्री के तौर पर कल शपथ लेने वाले बी.एस. येदियुरप्‍पा की सरकार ने गुरुवार शाम ईगल्‍टन रिसॉर्ट से सुरक्षा व्‍यवस्‍था हटा ली थी. कांग्रेस और जेडीएस ने आरोप लगाया था कि सुरक्षा हटाने के बाद बीजेपी की ओर से विधायकों से फिर से दोबारा संपर्क किया गया. कांग्रेस विधायक रामलिंगा रेड्डी ने कल रात क‍हा था कि बीजेपी के लोग ईगल्टन रिसॉर्ट के अंदर आए और विधायकों को पैसों का लालच दिया. उनसे फोन पर भी संपर्क करने की लगातार कोशिश करने का आरोप उन्‍होंने लगाया.