हरिद्वार के बाद देश का दूसरा देव संस्कृति विश्वविद्यालय छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले के सांकरा में बनेगा। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने शनिवार को इस विश्वविद्यालय के लिए भूमिपूजन किया। समाजसेवी वासुदेव शर्मा और डॉ. दीपक शर्मा ने ग्राम सांकरा (कुम्हारी) में गायत्री परिवार द्वारा बनाए जाने वाले देव संस्कृति विश्वविद्यालय के लिए 45 एकड़ भूमि दान में दी है।मुख्यमंत्री ने कहा कि शिक्षा के साथ-साथ समाज को संस्कारवान बनाने में देव संस्कृति विश्वविद्यालय का विशेष योगदान होगा। अच्छे संस्कार से भावी पीढ़ी में मातृभूमि और देशप्रेम की भावना का विकास होगा।यह भी पढ़े :आईएस में शामिल होने जा रहे 3 हैदराबादी युवक गिरफ्तार Also Read - Delhi में 5 राज्‍यों के लोगों की एंट्री पर नियम सख्‍त, प्रवेश करने पर दिखानी होगी Covid-19 की Negative Test Report

Also Read - शर्मनाक वाकया: जब स्‍कूल का प्रधान अध्यापक ही छात्राओं से करने लगा अश्‍लील हरकत, हुआ ये अंजाम

डॉ. सिंह ने कहा कि देव संस्कृति विश्वविद्यालय की स्थापना से समाज की वैचारिक सोच में पर्वितन आएगा और युवाओं में नवचेतना जागृत होगी।उन्होंने विश्वविद्यालय के निर्माण में राज्य सरकार की ओर से हरसंभव सहयोग देने का आश्वासन दिया।इस विश्वविद्यालय में प्रदेश के साथ ही देशभर के युवाओं को औपचारिक शिक्षा के साथ-साथ नैतिक, सांस्कृतिक, धार्मिक, अध्यात्म और विज्ञान की शिक्षा दी जाएगी। Also Read - भारतमाला योजना में शामिल होंगे छत्तीसगढ़ के तीन राजमार्ग, सीएम भूपेश बघेल ने केंद्रीय मंत्री गडकरी से की मुलाकात

इस अवसर पर हरिद्वार स्थित देव संस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति और अखिल विश्व गायत्री परिवार के प्रमुख प्रणव पंड्या ने लोगों को विश्वविद्यालय की स्थापना के उद्देश्यों से अवगत कराया।कार्यक्रम में राज्यसभा सांसद नंदकुमार साय, सांसद महासमुंद चन्दूलाल साहू, सक्ती के विधायक डॉ. खिलावन साहू, पूर्व संसदीय सचिव विजय बघेल, ग्राम पंचायत सांकरा की सरपंच रैमून बाई साहू सहित अन्य जनप्रतिनिधि और बड़ी संख्या में गायत्री परिवार के सदस्य उपस्थित थे।