रायपुर: छत्तीसगढ़ के कोयला समृद्ध रायगढ़ जिले में एक बंद पेपर मिल में सफाई करने के दौरान कम से कम सात लोगों की तबीयत खराब हो गई, और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है. मिल को दोबारा शुरू करने के लिए यहां से कूड़े को हटाया जा रहा था. घटना बुधवार रात एक ग्रामीण इलाके में स्थित शक्ति पेपर्स मिल में हुई. मिल प्रबंधन के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया है. Also Read - छत्तीसगढ़ में Coronavirus के 15 नए केस, कुल आंकड़ा, 307 लेकिन कोई भी मौत नहीं

रिपोर्ट्स के मुताबिक, घटना से लोगों में गुस्सा है, जहां करीब 60 गरीब परिवार रहते हैं. फोरेंसिंक टीम हालांकि घटना के वास्तविक कारणों का पता लगाने के लिए घटनास्थल पर पहुंच चुकी है. रायगढ़ के पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह ने फोन पर बताया, “एक खुले टैंक से सात मजदूर पेपर के कचरे को निकाल रहे थे. उसी दौरान उन्होंने सांस लेने में तकलीफ की शिकायत की, जिन्हें अस्पताल ले जाया गया. इनमें से तीन को बेहतर इलाज के लिए राजधानी ले जाया गया है.” Also Read - Coronavirus in Chhattisgarh: छत्तीसगढ़ में चार विकासखंड रेड जोन में शामिल, 44 निषेध क्षेत्र भी हुए घोषित

वहीं, एक कर्मचारी को रायपुर के एमएमआई अस्पताल में वेंटिलेटर पर रखा गया है और उसकी स्थिति गंभीर बताई जा रही है. छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्थानीय प्रशासन को तत्काल सभी मदद मुहैया कराने के आदेश दिए हैं. Also Read - छत्तीसगढ़ में मुठभेड़ में 8 लाख रुपए के इनामी नक्सली समेत 2 माओवादी ढेर

बता दें कि इससे पहले आज ही आन्ध्र प्रदेश में गैस लीक के कारण 11 लोगों की जान गई है. आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम में एलजी पॉलीमर्स लिमिटेड की फैक्ट्री से गैस लीक होने की घटना के सिलसिले में पुलिस ने प्रबंधन के खिलाफ गैर इरादतन हत्या और लापरवाही के कारण मौत का मामला दर्ज किया है. बृहस्पतिवार तड़के हुई इस गैस लीक से 11 लोगों की मौत हुई है और करीब 1,000 लोगों का स्वास्थ्य इससे प्रभावित हुआ है.