रायपुर: छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के एक स्कूल में छह वर्षीय बालिका से 10 वर्षीय बालकों द्वारा दुष्कर्म की घटना के करीब 10 दिन बाद पुलिस ने प्राचार्य को गिरफ्तार कर लिया है. प्राचार्य पर आरोप है कि उन्होंने घटना की जानकारी तत्काल पुलिस को या उच्च अधिकारियों को नहीं दी. रायपुर के खमतराई थानाध्यक्ष रमाकांत साहू ने शनिवार को यहां बताया कि शहर के एक शासकीय स्कूल में पहली कक्षा की छह वर्षीय छात्रा से इस महीने की 20 तारीख को पांचवीं कक्षा के तीन छात्रों ने दुष्कर्म किया था. इस घटना के बारे में तत्काल पुलिस को या उच्च अधिकारियों को सूचना नहीं देने के आरोप में पुलिस ने शुक्रवार को स्कूल के प्राचार्य बीएस अहिरे को गिरफ्तार का लिया.

साहू ने बताया कि स्कूल में घटना की जानकारी के बाद प्राचार्य को इसकी सूचना पुलिस को, बाल कल्याण समिति या मजिस्ट्रेट को देनी चाहिए थी. लेकिन उन्होंने अपने स्तर पर मामले की छानबीन करने की कोशिश की थी. पुलिस अधिकारी ने बताया कि पुलिस ने इस मामले में प्राचार्य अहिरे को लापरवाही का दोषी मानते हुए लैंगिक अपराधों से बालकों का सरंक्षण अधिनियम 2012 की धारा 21 के तहत तथा भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत गिरफ्तार कर लिया. उन्होंने बताया कि गिरफ्तार प्राचार्य को पुलिस ने शुक्रवार को ही स्थानीय अदालत में पेश किया जहां से उन्हें जमानत मिल गई.

साहू ने बताया कि इस महीने की 20 तारीख को जब छात्रा स्कूल गई थी तब दो छात्र उसे स्कूल के बाथरूम में ले गए तथा एक अन्य छात्र बाथरूम के बाहर खड़ा हो गया. बाथरूम में छात्रों ने बच्ची के साथ दुष्कर्म किया. इस घटना की जानकारी जब परिजनों को मिली तब उन्होंने स्कूल प्रबंधन से इसकी शिकायत की. लेकिन जब प्रबंधन ने इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की. तब उन्होंने 22 अगस्त को पुलिस में शिकायत की. थानेदार ने बताया कि शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने बालकों के खिलाफ दुष्कर्म करने तथा लैंगिक अपराधों से बालकों का सरंक्षण अधिनियम 2012 के तहत मामला दर्ज कर लिया था. उन्होंने बताया कि घटना के बाद आरोपी छात्रों को किशोर गृह में भेज दिया गया है.

एनआरसी में नहीं जिन 19 लाख लोगों के नाम, ये भेजे जाएंगे जेल या घोषित होंगे विदेशी, जानिए

भारत-पाकिस्तान की इन लेस्बियन लड़कियों ने धूमधाम से रचाई शादी, सोशल मीडिया पर छाईं ये फोटोज़