हैदराबाद: तेलंगाना के मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव ने सोमवार को एक बड़ा ऐलान करते हुए प्रवासी मजदूरों को उनके मूल स्थानों पर भेजने की बात कही. उन्होंने कहा कि लगातार एक सप्ताह तक प्रवासी मजदूरों को उनके मूल निवास पर भेजने का काम किया जाएगा. Also Read - यूपी की योगी सरकार प्रवासी मजदूरों को राज्‍य में ही दिलाएगी 11 लाख नौकरियां, MoUs साइन किए

मुख्यमंत्री कार्यालय की तरफ से जारी एक बयान में कहा गया, “मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने घोषणा की कि तेलंगाना में प्रवासी मजदूरों को उनके मूल राज्यों में भेजने के लिए मंगलवार से एक सप्ताह के लिए प्रति दिन 40 विशेष ट्रेनों का संचालन किया जाएगा.” Also Read - Telangana: 120 फिट गहरे बोरवेल में गिरने से तीन साल के मासूम की हुई मौत, 12 घंटे चला रेस्क्यू ऑपरेशन

बता दें कि भारतीय रेलवे देशभर में फंसे हुए लोगों को विशेष श्रमिक रेलगाड़ियों के जरिए उनके मूल राज्यों में पहुंचा रही है. रेलवे ने दिशानिर्देशों में कहा था कि फंसे हुए लोगों को भोजन, सुरक्षा, स्वास्थ्य की जांच और टिकट उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी उस राज्य की होगी जहां से ट्रेन चल रही है. Also Read - प्रेमिका का कत्ल छुपाने के लिए प्रेमी ने किए 9 मर्डर, फिर कुएं में छिपाईं लाशें, ऐसे हुआ मामले का खुलासा...

वहीं तेलंगाना की बात करें तो राज्य का मंत्रिमंडल मंगलवार को बैठक करेगा जिसमें लॉकडाउन के नियमों में कुछ क्षेत्रों के लिए ढील देने से संबंधित मुद्दों पर चर्चा होगी. एक अधिकारी ने बताया, “कैबिनेट चार मई से केंद्र द्वारा घोषित कुछ ढील पर चर्चा करेगा. केंद्र ने पहले ऐलान किया था कि लॉकडाउन 17 मई तक जारी रहेगा. लिहाजा मंत्रिमंडल नए दिशा-निर्देश और रियायतों पर चर्चा करेगा.”

मंत्रिमंडल इस बात पर भी चर्चा करेगा कि आठ मई से शराब की दुकानों को खोलने की इजाजत दी जाए या नहीं. राज्य में लॉकडाउन का दूसरा चरण सात मई तक जारी रहेगा. शराब की दुकानें लॉकडाउन के ऐलान के बाद से ही बंद हैं. मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने रविवार को राज्य में कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए किए गए उपायों की समीक्षा की थी.

(इनपुट भाषा)