नई दिल्ली| भारत के साथ चल रहे सीमा विवाद के बीच सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने गुरुवार को गंगटोक स्थित 17 माउंटेन डिविजन और कलिमपोंग स्थित 27 माउंटेन डिविजन का दौरा कर स्थिति का जायजा लिया. सूत्रों के मुताबिक, भारत और चीन ने दूरवर्ती सीमा क्षेत्र पर 3-3 हजार सैनिकों को तैनात कर सिक्किम-भूटान-तिब्बत ट्राइ-जंक्शन में अपनी स्थिति मजबूत कर ली है. हालांकि, भारतीय सेना ने इस ख़बर की आधिकारिक पुष्टि नहीं की है. Also Read - भारत-चीन के बीच सीमा पर झड़पों से रिश्तों में गंभीर रूप से उथल-पुथल की स्थिति: जयशंकर

एनबीटी में प्रकाशित एक खबर के मुताबिक, इस ट्राइ-जंक्शन पर हमेशा से सैनिक तैनात रहे हैं, लेकिन डोका ला जनरल पर सैनिकों की हाल में हुई तनाती बेहद गंभीर है. दोनों ही देश अपने स्थान से हटना नहीं चाहते. दोनों विरोधी कमांडरों के बीच हुई फ्लैग मीटिंग और वार्ता का फिलहाल कोई असर नहीं हुआ है. Also Read - नेपाल को UN से मिला बड़ा झटका, विवादास्पद मानचित्र को मान्यता देने से किया इनकार!

बता दें कि भारतीय सेना डोका ला इलाके को लेकर काफी संवेदनशील है, विशेषकर जोम्पलरी रिज को लेकर. इसकी वजह यह है कि यह रणनीतिक रूप से संवेदनशील माने जाने वाले सिलीगुड़ी कॉरिडोर के नजदीक है. भारत ने सिलीगुड़ी कॉरीडोर में अपने रक्षा प्रणाली को मजबूत किया है ताकि चीन के प्रवेश को रोका जा सके. यह संकरी पट्टी पूर्वोत्तर राज्यों को शेष भारत से जोड़ती है. भारत ने स्पष्ट कर दिया है कि यह चीन को ट्राइ-जंक्शन तक सड़क नहीं बनाने देगा. Also Read - India-China Border Tension: पूर्वी लद्दाख से जल्द हटेंगे दोनों देश के सैनिक, तनाव कम करने को जताई सहमति

चीन पर भड़का भूटान

भूटान ने आज चीन पर अपने सीमा क्षेत्र में सड़क का निर्माण कर दोनों देशों के बीच हुए समझौते का सीधा उल्लंघन करने का आरोप लगाया है. एक कड़े बयान में भूटान ने चीन से जोम्पेलरी स्थित भूटानी सेना के शिविर की तरफ डोकलाम इलाके में डोकोला से वाहनों की आवाजाही के योग्य सड़क का निर्माण रोकने को भी कहा.

भूटान का कहना है कि इससे दोनों देशों के बीच सीमा तय करने की प्रक्रिया प्रभावित होती है. भूटान की टिप्पणी सिक्किम सेक्टर के डोकलाम इलाके में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच जारी तनातनी के बीच आयी है. भूटान ने कहा कि उसने सड़क निर्माण को लेकर चीन को डिमार्शे भी जारी किया है और चीन से तत्काल निर्माण कार्य रोककर यथास्थिति बहाल करने को कहा.