नई दिल्ली। भारत-चीन सीमा के पास उत्तराखंड के चमोली जिले के बराहोटी में चीनी हेलिकॉप्टर के भारतीय वायुसीमा के उल्लंघन की बात को चीन ने खारिज कर दिया है. चीन ने इस घटना को बेबुनियाद बताते हुए चीनी हेलीकॉप्टर द्वारा की गई घुसपैठ को सिरे से खारिज कर दिया है. चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हुया चुनिंग ने पत्रकारों से कहा कि इस क्षेत्र में भारत और चीन के बीच पूर्वी भाग में क्षेत्रीय विवाद है. इस लिहाज से ये कहना गलत है कि हमने किसी तरह का सीमा उल्लंघन किया है.

भारत-चीन सीमा के पास उत्तराखंड के चमोली जिले में शनिवार को चीन के हेलिकॉप्टर के गश्ती की खबर थी. ये घटना चमोली जिले के बराहोटी इलाके में हुई जहां शनिवार सुबह भारतीय सीमा में चीनी सेना का एक संदिग्ध हेलीकॉप्टर उड़ता देखा गया. इस बात की पुष्टि चमोली के पुलिस अधीक्षक तृप्ति भट्ट ने करते हुए बताया कि सुबह नौ बजे के करीब एक हेलिकॉप्टर भारतीय वायु सीमा के बराहोटी इलाके में उड़ता दिखाई दिया था.

चीनी सेना का ये हेलीकॉप्टर इस इलाके में करीब 5 मिनट तक उड़ता रहा. अधिकारियों को आशंका है कि कहीं चीन ने इस दौरान सैनिक गतिविधियों की फोटोग्राफी ना कर ली है. मामला सामने आने के बाद जांच शुरू कर दी गई है. हालांकि अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि विमान भारतीय सीमा में जासूसी के मकसद से घुसा था या फिर अनजाने में भारतीय सीमा में घुस आया था.

सुषमा ने बताया अस्वीकार्य

वहीं विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा है कि इस तरह की घुसपैठ अस्वीकार्य और अहसहनीय है. यह पहला ऐसा क्षेत्र है जहां हवाई सीमाओं के नियमों का उल्लंघन किया गया हो. हम इसे जमीनी घुसपैठ भी समझ सकते हैं. यह एक गलती हो सकती है लेकिन यह अस्वीकार्य है. हम इस मामले को बीजिंग के सामने रखेंगे.

चीन द्वारा इस इलाके में चौथी बार घुसपैठ की घटना सामने आई है. भारतीय सुरक्षा के लिहाज से यह चिंता की बात है. इस घटना के बाद भारतीय सुरक्षा एजेंसी चौकन्नी हो गई है.