नई दिल्ली. तिब्बत के साथ लगी भारतीय सीमा पर चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. एक तरफ जहां चीन ने लद्दाख सीमा पर पिछले महीने (मार्च) में कई बार सीमा पर अवैध घुसपैठ करने की कोशिश की, वहीं दूसरी ओर चीनी सेना ने तिब्बत से सटे भारतीय क्षेत्र में स्पेशल गश्ती-बोट की भी तैनाती कर दी है. चीन के प्रमुख अखबार पीपुल्स डेली में छपी एक खबर के अनुसार चीनी सेना ने सीमावर्ती क्षेत्रों में सतर्कता बढ़ाने के उद्देश्य से हाल के दिनों में कई इंतजाम किए हैं. इसी के तहत दक्षिण पश्चिम चीन के तिब्बत स्वायत्तशासी क्षेत्र से लगी भारतीय सीमा पर चीनी सेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने एक स्पेशल गश्ती-बोट तैनात किया है. यह स्पेशल बोट 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल सकता है. साथ ही भयंकर बर्फीले तूफान भी इसका कुछ नहीं बिगाड़ सकेंगे. पीपुल्स डेली में ग्लोबल टाइम्स के हवाले से छपी रिपोर्ट के अनुसार, नॉन-मेटेलिक मटीरियल से बना यह बोट पैंगोंग झील के पास तैनात की गई है.

सीमा की सुरक्षा के लिए और भी किए हैं इंतजाम
चीनी सेना ने अपने देश की सीमाओं की रक्षा के लिए सिर्फ भारतीय सीमा पर ही सतर्कता नहीं बढ़ाई है, बल्कि पूरे देश की सीमा पर सुरक्षा को चाक-चौबंद करने के इंतजाम किए हैं. इसके तहत सेना की योजना है कि कुछ सीमावर्ती इलाकों में सैटेलाइट आधारित सूचना निगरानी प्रणाली का उपयोग किया जाए, ताकि किसी भी घटना के होने से पहले ही चीनी सेना को इसकी खबर हो सके. यह उपग्रह आधारित ‘अर्ली-वॉर्निंग मॉनिटरिंग सिस्टम’ खासकर सीमा पर गश्ती के लिए काम करेगा. इसके अलावा बॉर्डर इलाके में सर्विलांस कैमरा लगाए जाने की भी योजना है. इससे चीन उन इलाकों की भी खबर रख सकेगा जहां पर घनी आबादी है.

सीमावर्ती इलाकों में ड्रोन तैनात करने का भी विचार
चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी सैन्य क्षमता में वृद्धि और सुधार के लिए और अधिक ऑटोमाइजेशन पर ध्यान दे रही है. इसके तहत सेना में मानव-रहित ड्रोन और ट्रैकिंग-व्हीकल शामिल करने की योजना है. इससे एक तरफ जहां चीन के सीमावर्ती इलाकों में चीनी सेना की गश्ती की क्षमता में बढ़ोतरी होगी, वहीं सेना का नियंत्रण भी इन इलाकों में बढ़ जाएगा. पीपुल्स लिबरेशन आर्मी चाहती है कि चीन की लंबी सीमाओं की सुरक्षा के लिए उसके पास जमीन, पानी और हवा में काम करने वाले उपकरण हों. सेना की योजना है कि इन सुरक्षा संबंधी कवायदों से बॉर्डर इलाकों की निगरानी और उन पर नियंत्रण रखने में आसानी होगी.

मार्च में चीनी सेना ने की सीमा पर अतिक्रमण की कोशिश
हमारे सहयोगी चैनल WION के अनुसार पिछले महीने यानी मार्च में चीनी सेना की ओर से कई बार सीमा पर अतिक्रमण के प्रयास किए गए. WION ने भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) की गृह मंत्रालय को सौंपी गई रिपोर्ट के हवाले से बताया है कि चीन ने मार्च में 3, 7 और 12 मार्च को सीमा में अवैध तरीके से अतिक्रमण का प्रयास किया. 28 फरवरी को गृह मंत्रालय को सौंपी गई इस रिपोर्ट में बताया गया है कि लद्दाख क्षेत्र में चीनी सेना की ओर से सबसे ज्यादा बार अतिक्रमण करने की कोशिश की गई. लद्दाख में पैंगोंग झील के इलाके में चीनी सेना के जवानों के भारतीय क्षेत्र में करीब 6 किलोमीटर तक अंदर आने की खबर है. रिपोर्ट के अनुसार आईटीबीपी के जवाब के बाद सभी चीनी सैनिक वापस अपने क्षेत्र में लौट गए.