India-China Border Row: पूर्वी लद्दाख में LAC पर भारत और चीन के बीच बीते कई महीनों से तनाव जारी है. इस बीच अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) में बॉर्डर के पास से 5 भारतीय नागरिकों को चीनी सेना द्वारा अगवा करने का कथित तौर पर सनसनीखेज मामला सामने आया है. न्यूज एजेंसी ANI के अनुसार अरुणाचल प्रदेश के कांग्रेस विधायक निनॉन्ग एरिंग (Ninong Ering) का दावा है कि चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) ने अरुणाचल प्रदेश के सीमावर्ती इलाके से 5 भारतीयों को अगवा कर लिया है. कांग्रेस विधायक निनॉन्ग एरिंग ने ट्वीट कर भी यह दावा किया है. Also Read - अरुणाचल प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री भी Coronavirus से हुए संक्रमित, संपर्क में आए लोगों से की यह अपील

कांग्रेस विधायक निनॉन्ग एरिंग ने PMO को टैग कर ट्वीट में कहा कि अरुणाचल प्रदेश के सुबनसिरी जिले के पांच लोगों का कथित तौर पर चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (People’s Liberation Army) ने अगवा कर लिया गया है. उन्होंने यह भी लिखा कि कुछ महीने पहले भी इस तरह की घटना हुई थी.

कांग्रेस विधायक ने मामले में सरकार से कार्रवाई की मांग की है और चीन की सेना को इसका दो टूक जवाब देने की मांग की है. कांग्रेस विधायक ने अपने ट्वीट में दो स्क्रीनशॉट भी शेयर किये हैं, जिसमें एक यूजर अपने भाई के अगवा होने की बात कह रहा है, तो वहीं दूसरे में पांचों लापता लोगों के नाम हैं.

उधर, रूस के मॉस्को में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और चीनी रक्षा मंत्री वेई फेंगही के बीच शुक्रवार को दो घंटे से अधिक समय तक बैठक हुई जिसमें पूर्वी लद्दाख में सीमा पर तनाव को कम करने पर ध्यान केंद्रित रहा. सरकारी सूत्रों ने यह जानकारी दी. पूर्वी लद्दाख में मई में सीमा पर हुए तनाव के बाद से दोनों ओर से यह पहली उच्च स्तरीय आमने सामने की बैठक थी. इससे पहले विदेश मंत्री एस जयशंकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल गतिरोध दूर करने के लिए चीनी विदेश मंत्री वांग यी के साथ टेलीफोन पर बातचीत कर चुके हैं.

सूत्रों ने बताया कि वार्ता के दौरान सिंह ने पूर्वी लद्दाख में यथा स्थिति को बनाए रखने और सैनिकों को तेजी से हटाने पर जोर दिया. सिंह के कार्यालय ने ट्वीट किया, ‘‘रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और चीनी रक्षा मंत्री जनरल वेई फेंगही के बीच मॉस्को में बैठक समाप्त हुई. यह बैठक दो घंटे 20 मिनट तक चली.’’

(इनपुट: एजेंसी)