तिरुपति: भारत के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमण (CJI NV Ramana) अपनी पत्नी के साथ शुक्रवार को आंध्र प्रदेश के तिरुपति मंदिर (Tirupati Balaji) पहुंचे और भगवान बाला जी व्‍यंकटेश्‍वर के दर्शन किए और पूजा की. इससे पहले गुरुवार की देर रात सीजेआई और उनकी पत्नी ने मंदिर में दर्शन किए और ‘द्वाजस्थंबम’ में पूजा अर्चना की. इस साल 24 अप्रैल को मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ लेने के बाद यह उनका मंदिर का पहला दौरा है. Also Read - Andhra Pradesh Lockdown Update: आंध्र प्रदेश सरकार ने कोविड कर्फ्यू 20 जून तक बढ़ाया, जारी रहेंगी पाबंदियां

तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (टीटीडी) के अध्यक्ष वाई. वी. सुब्बा रेड्डी ने रमण का स्वागत किया. परंपरा के अनुसार, वैदिक पुजारियों द्वारा मंत्रोच्चार के बीच सीजेआई को मंदिर में ले जाया गया. बाद में, सीजेआई ने रंगनायकुल मंडपम के पुजारियों के आशीर्वाद से ‘प्रसादम’ (पवित्रा भोजन) प्राप्त किया. Also Read - कोरोना से ठीक होकर महिला जब अस्‍पताल से घर लौटी, तो पता चला क‍ि उसका तो अंतिम संस्कार हो चुका

Also Read - PM मोदी 10 राज्‍यों के डीएम से बोले- कोरोना ने आपके काम को पहले से कई अधिक चुनौतीपूर्ण बना दिया है

सीजेआई ने श्री वेंकटेश्वर भक्ति चैनल (एसवीबीसी) को बताया कि उनके जीवन में कई चमत्कार हुए हैं और भगवान वेंकटेश्वर के आशीर्वाद ने उन्हें देश के सर्वोच्च न्यायिक कार्यालय तक पहुंचाया है. सीजेआई ने कहा कि भगवान के आशीर्वाद से वह भारतीय न्यायपालिका का झंडा ऊंचा रखने के लिए काम करेंगे.

रमण और उनकी पत्नी ने बेदी अंजनेय स्वामी मंदिर का भी दौरा किया. अपनी यात्रा के दौरान, सीजेआई के साथ आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय की न्यायाधीश के. ललिता कुमारी, चित्तूर के जिला न्यायाधीश रवींद्र बाबू, तिरुपति के अतिरिक्त जिला न्यायाधीश वाई. वीरराजू और प्रोटोकॉल मजिस्ट्रेट पवन कुमार थे.

गुरुवार रात तिरुपति पहुंचने पर, सीजेआई का रेड्डी और टीटीडी के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने गर्मजोशी से स्वागत किया. वरिष्ठ युवाजन श्रमिक रायथू कांग्रेस पार्टी (वाईएसआरसीपी) के नेता और तिरुपति विधायक, भुमना करुणाकर रेड्डी, और अन्य भी उपस्थित थे.