देहरादून: उत्तराखंड के ज्यादातर स्थानों पर पिछले 24 घंटे से लगातार हो रही भारी बारिश के कारण कई जगह बादल फटने और भूस्खलन होने से आधा दर्जन से ज्यादा लोगों के मारे जाने की आशंका है और कई अन्य घायल हो गए. उत्तरकाशी जिले के मोरी ब्लॉक में शनिवार को देर रात बादल फटने से कई गांवों में तबाही मची, जिसमें आराकोट, माकुडी और टिकोची में कई मकान ढह गए. वहीं, टोंस नदी में भारी बाढ़ आ गई है. नदी में बाढ़ के पानी के उफान का वीडियो सामने आया है.

राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) से मिली जानकारी के अनुसार, अभी तक इन घटनाओं में करीब आठ व्यक्तियों के लापता होने की सूचना है. एसडीआरएफ की टीम मौके के लिए रवाना कर दी गई है, लेकिन लगातार भारी बारिश के कारण बचाव और राहत कार्यों में बाधा पड़ रही है.

उत्तरकाशी के जिलाधिकारी आशीष चौहान घटनाओं पर निगरानी रखे हुए हैं और वरिष्ठ प्रशासनिक और पुलिस अधिकारी घटनास्थल की ओर रवाना हो गए हैं.

चारधाम यात्रा मार्ग पर भी कई स्थानों पर भूस्खलन होने से यात्रा में रुकावट पैदा हो गई. केदारनाथ यात्रा पैदल मार्ग पर मंदाकिनी नदी पर बना एक पुल क्षतिग्रस्त हो गया है, जिसके चलते उसे बीच में ही रोकना पडा.

इसी प्रकार बदरीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री यात्रा मार्ग पर भी कई जगह भूस्खलन होने से यातायात रुका है. हालांकि, प्रशासन का कहना है कि इससे चारधाम यात्रा पर केवल आंशिक प्रभाव पड़ा है.

कैलाश- मानसरोवर यात्रा मार्ग भी भूस्खलन का मलबा आ जाने के कारण प्रभावित हुआ है और तीर्थयात्रियों को सुरक्षित जगह पर ले जाया जा रहा है. देहरादून के मालदेवता क्षेत्र में भारी बारिश के चलते एक कार बरसाती नदी में गिर गई, जिसमें एक महिला बह गई.