नई दिल्ली। लोक निर्माण विभाग में वास्तुविदों को काम पर रखने में नियमों का उल्लंघन के सिलसिले में दिल्ली के लोक निर्माण मंत्री सत्येंद्र जैन के निवास पर सीबीआई छापे को लेकर फिर सियासी तीर चलने शुरू हो गए हैं. छापे के कुछ घंटे बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सवाल किया, प्रधानमंत्री मोदी चाहते क्या हैं? केजरीवाल ने कहा कि सत्येंद्र जैन ने प्राइवेट अस्पतालो की मुनाफाखोरी के खिलाफ नीति का ऐलान किया और इधर मोदी सरकार ने सीबीआई रेड करवा दी. लेकिन हम किसी छापे से डरने वाले नहीं, नीति जारी रहेगी.

केंद्र सरकार पर बोला हमला

सत्तारुढ़ आप ने केंद्र सरकार पर यह सुनिश्चित करने के लिए पार्टी के मंत्रियों और विधायकों को विवादों में बनाये रखने का आरोप लगाया कि दिल्ली सरकार के कामकाज लोगों की नजरों से ओझल हो जाए. उसने कहा कि छापा लोगों का ध्यान अरविंद केजरीवाल सरकार के अच्छे कामों से ध्यान बंटाने के लिए है. लोक निर्माण विभाग में वास्तुविदों को काम पर रखने में नियमों के कथित उल्लंघन के सिलसिले में सीबीआई द्वारा जैन के खिलाफ नया मामला दर्ज होने के बाद यह छापा डाला गया. केजरीवाल ने ट्वीट किया, प्रधानमंत्री मोदी चाहते क्या हैं?

सिसोदिया ने कसा तंज

इससे पहले जैन ने ट्वीट कर इस बात की पुष्टि की कि केंद्रीय जांच एजेंसी ने उनके विभाग द्वारा कथित रुप से सृजनात्मक टीम रखे जाने को लेकर छापा मारा था. निजी अस्पतालों के अत्यधिक शुल्क वसूलने पर अब एक सीमा लगाने के हाल के दिल्ली सरकार के फैसले का हवाला देते हुए उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि आप सरकार निजी अस्पतालों की लूट रोक रही है लेकिन केंद्र सरकार को पीड़ा हो जाती है और वह सीबीआई छापा डलवा देती है. जैन पहले से ही धनशोधन से जुड़े एक मामले का सामना कर रहे हैं.

केद्र-आप सरकार में तनातनी

केंद्र और आप सरकार के बीच सियासी बयानबाजी का दौर नया नहीं है. सरकार गठन के समय से दिल्ली और केंद्र सरकार के बीच तनातनी का माहौल है. केजरीवाल और उनके मंत्रियों ने कई मुद्दों पर केंद्र सरकार पर भेदभावपूर्ण बर्ताव करने का आरोप लगाया है. चाहे मामला आपराधिक मामलों में फंसे आप विधायकों की गिरफ्तारी का हो, 21 विधायकों को अयोग्य ठहराने का मामला हो या फिर दिल्ली के मुख्य सचिव से मारपीट का मामला हो, आप सरकार ने केंद्र सरकार और बीजेपी को जिम्मेदार ठहराया है.