नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनके मंत्री मनीष सिसोदिया, सत्येंद्र जैन और गोपाल राय अपनी तीन मांगों को लेकर रात भर उप राज्यपाल अनिल बैजल के कार्यालय में बैठे रहे. केजरीवाल और उनके मंत्रियों ने आईएएस अधिकारियों को हड़ताल खत्म करने का निर्देश देने और चार महीनों से कामकाज रोक कर रखे अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने सहित तीन मांगें की है. इस बीच, अधिकारियों के एक संगठन ने कहा कि कोई भी अधिकारी हड़ताल पर नहीं है और काम पूरे उत्साह से चल रहा है.Also Read - दिल्ली सरकार के प्रचार वीडियो में दिखे स्कूली बच्चे, बाल अधिकार आयोग कर सकता है कार्रवाई; जानिए क्यों...

सूत्रों ने बताया कि मधुमेह के शिकार मुख्यमंत्री को इस दौरान इंसुलिन लेना पड़ा और उन्होंने घर का बना खाना खाया. कई आप विधायकों ने भी राज्यपाल कार्यालय के बाहर डेरा डाल दिया तो पुलिस ने वहां बैरीकेड लगा दिए. मंगलवार सुबह मुख्यमंत्री ने उपराज्यपाल कार्यालय से ही ट्वीट किया. ट्वीट में उन्होंने लिखा, ”मेरे प्यारे दिल्लीवासियों, सुप्रभात! संघर्ष जारी है.” Also Read - Chhath Puja 2021: अरविंद केजरीवाल ने बैजल को लिखा पत्र, बोले- 'दिल्ली में कोरोना कंट्रोल में है, छठ पूजा कार्यक्रमों की अनुमति दें'

Also Read - Delhi Corona Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे में कोरोना के 31 नए केस; लगातार तीसरे दिन नहीं गई किसी की जान

केजरीवाल ने उप राज्यपाल (एलजी) कार्यालय के प्रतीक्षा कक्ष से शाम छह बजे ट्वीट किया कि बैजल को एक पत्र सौंपा गया लेकिन उन्होंने कार्रवाई करने से इनकार कर दिया. उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘उन्हें पत्र सौंपा, एलजी ने कार्रवाई करने से इनकार कर दिया. कार्रवाई करना एलजी का संवैधानिक कर्तव्य है. कोई विकल्प नहीं बचने पर हमने एलजी से विनम्रता से कहा है कि जब तक वह सभी विषयों पर कार्रवाई नहीं करेंगे, तब तक वे वहां से नहीं जाएंगे.’’

उन्होंने कहा, ‘‘स्वतंत्र भारत के इतिहास में यह पहली बार हुआ है कि आईएएस अधिकारी चार महीने से हड़ताल पर हैं, क्यों?’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम पिछले कई महीनों से एलजी से अनुरोध कर रहे हैं लेकिन एलजी ने इनकार कर दिया.’’ सिसोदिया ने कहा कि वह हड़ताल के बारे में एलजी से पांच बार मिले लेकिन उन्होंने इसे खत्म कराने के लिए कुछ नहीं किया.

सिसोदिया ने राज निवास से ट्वीट किया, ‘‘कोई निर्वाचित सरकार कैसे काम कर सकती है, यदि एलजी आईएएस अधिकारियों की हड़ताल का इस तरह से समर्थन करेंगे.’’ मुख्य सचिव अंशु प्रकाश पर केजरीवाल के आवास पर फरवरी में हुए कथित हमले के बाद से आप सरकार और नौकरशाही के बीच तकरार चल रही है.

इससे पहले दिन में केजरीवाल ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) और केंद्र ने आप सरकार के कामकाज को रोकने के लिए एलजी, आईएएस अधिकारियों और सीबीआई, ईडी, आयकर विभाग और दिल्ली पुलिस को पूरी छूट दे रखी है.

उपराज्यपाल ने सीएम पर लगाया आरोप
दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर बड़ा आरोप लगाया है. उपराज्यपाल ने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री ने उन्हें अधिकारियों को राजभवन में बुलाने और उनकी हड़ताल खत्म कराने की धमकी दी है. उपराज्यपाल ने कहा कि केजरीवाल और उनके तीन मंत्री राजनिवास में एक और बेवजह धरना दे रहे हैं. उपराज्यपाल ने कहा कि अधिकारी किसी हड़ताल पर नहीं हैं और मुख्यमंत्री को विश्वास का माहौल बनाने और नौकरशाही की वास्तविक समस्याओं का हल करना चाहिए.