दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को कहा कि राष्ट्रीय राजधानी की सीमाएं फिलहाल एक सप्ताह तक बंद रहेंगी और साथ ही उन्होंने इनको खोलने के लिए सुझाव भी मांगे. केजरीवाल ने ऑनलाइन एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि आवश्यक सेवाओं में काम कर रहे लोग जिनके पास पास होगा, उन्हें आने-जाने की अनुमति दी जाएगी. इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ लोग कहेंगे कि अगर दूसरे राज्यों के लोगों को शहर में प्रवेश करने की अनुमति दी जाती है, तो वे कोविड-19 संकट के मद्देनजर बड़ी संख्या में स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ उठाएंगे और इससे दिल्लीवासी उनका उपयोग नहीं कर पाएंगे. Also Read - दिल्ली: कोरोना संक्रमित 1 लाख पार, मृतकों की संख्या 3 हज़ार से ऊपर, केजरीवाल बोले- फ़िक्र न करें लोग

केजरीवाल का कहना है कि दिल्लीवासियों के लिए तो पर्याप्त व्यवस्था है लेकिन दूसरे राज्य के लोग यहां के अस्पतालों में इलाज करवाएंगे तो हो सकती है दिक्कत. केजरीवाल का कहना है कि क्या दिल्ली के अस्पतालों में बेड केवल दिल्ली वालों के लिए रिजर्व होने चाहिए? उन्होंने इसके लिए लोगों से सुझाव मांगे हैं. क्या आप इस बयान से सहमत हैं? हां, या नहीं, नीचे अपना वोट देकर दीजिए अपनी राय. Also Read - एलएनजेपी, राजीव गांधी अस्पतालों में आईसीयू बेड की संख्या बढ़ायी गई: अरविंद केजरीवाल

Also Read - दिल्‍ली में कोरोना के मामले एक लाख के पार, लेकिन घबराने की जरूरत नहीं: CM केजरीवाल