नई दिल्‍ली: कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे के मद्देनजर पंजाब में पूर्ण कर्फ्यू लगाने की घोषणा कर दी गई है. ये घोषणा मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने सोमवार को पूर्ण कर्फ्यू लगाने की घोषणा की. राज्‍य में जरूरी सेवाओं को छोड़कर कोई छूट नहीं होगी. कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए सोमवार को कर्फ्यू लागू करने का बड़ा कदम उठाने वाला देश का पंजाब पहला राज्य है. Also Read - यूपी में युवक की गोली मारकर हत्या, तबलीगी जमात पर लगाया था कोरोना वायरस फैलाने का आरोप

पंजाब सरकार ने कहा, CoronaVirus के प्रसार को रोकने के लिए लागू लॉकडाउन से जिनकी आजीविका प्रभावित होगी है, उन्‍हें मदद दी जाएगी. पंजाब कैडर के सभी IAS अधिकारी मुख्यमंत्री राहत कोष में एक दिन के वेतन का योगदान देंगे. राज्‍य के जनसंपर्क विभाग ने बताया कि पंजाब विजिलेंस ब्यूरो (VB) के सभी अधिकारी / कर्मचारी मुख्यमंत्री राहत कोष में अपने एक दिन के वेतन का योगदान देंगे. Also Read - कोरोना से जंग: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी जलाए दीये, तस्वीरें शेयर कर संस्कृत में लिखा ये संदेश

अधिकारियों ने बताया कि लोग लॉकडाउन का पालन नहीं कर रहे थे, इसलिए मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कर्फ्यू की घोषणा की. एक आधिकारिक प्रवक्ता ने कहा, ”मुख्य सचिव एवं डीजीपी के साथ मिलकर हालात की समीक्षा के बाद मुख्यमंत्री ने बिना किसी ढील के पूर्ण रूप से कर्फ्यू लगाए जाने की घोषणा की है.” Also Read - कोरोना के खिलाफ जंग में एकजुट पूरा देश, पीएम की मां से लेकर कई हस्तियों ने घर के बाहर जलाए दीये, देखें तस्वीरें

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, लोग अब भी बड़ी संख्या में घरों से निकल रहे थे इसलिए कर्फ्यू लागू किया गया. इसका मकसद लोगों को घरों में रखना है.” प्रवक्ता ने बताया कि उपायुक्तों को आवश्यक आदेश देने को कहा गया है. प्रवक्ता ने कहा कि यदि कोई प्रतिबंध से छूट चाहता है तो उसे एक तय अवधि और काम के लिए यह छूट दी जाएगी.

पंजाब अभी तक कोरोना वायरस के 21 और हरियाणा में 12 मामले सामने आए हैं और चंडीगढ़ में छह मामले सामने आए हैं. पहले लॉकडाउन के तहत सीआरपीसी की धारा 144 के तहत लोगों के एकत्र होने पर प्रतिबंध लगाया जा चुका है. प्रतिबंधों का पालन करने के लिए पंजाब के सभी जिलों में अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किए जा रहे हैं.

पंजाब, केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ और हरियाणा के सात जिलों में सोमवार को लॉकडाउन लागू कर दिया गया. इससे एक ही दिन पहले प्राधिकारियों ने कोरोना वायरस का प्रसार रोकने के लिए आपातकालीन कदम के तौर पर इसे लागू करने का फैसला किया था. पंजाब में, परिवहन विभाग राज्य परिवहन की कुछ सेवाएं चालू रख सकता है ताकि आवश्यक सेवाएं उपलब्ध कराई जा सकें. पंजाब और हरियाणा में सभी अंतर्राज्यीय बस सेवाएं बंद रहेंगी. चंडीगढ़ में भी सभी परिवहन सेवाएं बंद रहेंगी.

हरियाणा सरकार ने 31 मार्च तक गुरुग्राम, फरीदाबाद, सोनीपत, पानीपत, झज्जर, रोहतक और पंचकूला में लॉकडाउन लागू किए जाने की घोषणा की है. इस बंदी से सभी आवश्यक एवं आपात सेवाओं को छूट दी गई है.

इस दौरान खाद्य सामग्री, किराना और दवाइयों आदि जैसे आवश्यक सामान की दुकानों को छोड़कर सभी वाणिज्यिक प्रतिष्ठान, दुकानें, फैक्ट्रियां बंद रहेंगी. अधिकारियों ने बताया कि जलापूर्ति, स्वच्छता, विद्युत, बैंक, एटीएम जैसी सेवाएं चालू रहेंगी. टैक्सी और ऑटो रिक्शा समेत सभी सार्वजनिक परिवहन सेवाएं बंद रहेंगी.

भारत में कोविड-19 के मामले बढ़कर 415 हुए : स्वास्थ्य मंत्रालय
देश में कोविड-19 संक्रमण के मामले बढ़कर 415 हो गए हैं. रविवार रात तक संक्रमित लोगों की संख्या 360 थी. स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को यह जानकारी दी. इन आंकड़ों में 41 विदेशी नागरिक और अब तक हुई सात मौत शामिल है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि गुजरात, बिहार और महाराष्ट्र में रविवार को एक-एक मौत हुई, जबकि पहले चार अन्य मौत कर्नाटक, दिल्ली, महाराष्ट्र और पंजाब में हुई थीं. इन 415 संक्रमित लोगों में वे 24 लोग भी शामिल हैं, जिनका इलाज किया जा चुका है या ठीक होने के बाद उन्हें अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी है या वो यहां से चले गए हैं.

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने कहा कि सोमवार सुबह 10 बजे तक 18,383 नमूनों की जांच की जा चुकी है. यह तत्काल नहीं साफ हो सका है कि नये मामले कहां से आए हैं.

मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के 67 मामले हैं, जिनमें तीन विदेशी नागरिक शामिल हैं. केरल से भी 67 मामले सामने आए हैं, जिनमें सात विदेशी शामिल हैं.

दिल्ली में संक्रमित लोगों की संख्या एक विदेशी समेत 29 है, जबकि उत्तर प्रदेश में एक विदेशी समेत 28 लोग संक्रमित हैं.

राजस्थान में दो विदेशी नागरिकों समेत 27 मामले हैं. तेलंगाना में 11 विदेशी समेत 26 मामले हैं. कर्नाटक में कोरोना वायरस के 26 मरीज हैं. हरियाणा, पंजाब, गुजरात, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश और उत्तराखंड सहित देश भर से मामले सामने आए हैं.