नई दिल्ली: कोरोना वायरस (Corona Virus) के चलते देश में लॉकडाउन (Lockdown in India) है. सब बंद होने के बाद लोग जहां थे वहीं फंसे रह गए. अलग-अलग राज्यों के लोग देश के कई हिस्सों में फंसे हैं. झारखंड के साथ भी ऐसा ही है. झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने कहा कि झारखंड के लोग जहां भी हैं, परेशान न हों. हम उन्हें उनके अपने राज्य झारखंड वापस लाएंगे. Also Read - यूपी: कोरोना मरीजों के लिए एक लाख बेड तैयार, इतनी बड़ी तैयारी करने वाला देश का पहला राज्य

झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने आश्वासन देते हुए कहा कि राज्य के स्टूडेंट्स, श्रमिक और अन्य लोग जहां भी फंसे हैं, उनसे प्रशासन द्वारा जल्द ही संपर्क किया जाएगा. और झारखंड वापस लाया जाएगा. किसी को भी परेशान होने की ज़रूरत नहीं है. बता दें कि झारखंड के लोग देश के अलग-अलग हिस्सों में हैं और झारखंड की सरकार से मांग कर रहे हैं कि उन्हें राज्य में लौटने में उनकी मदद की जाए. इसे लेकर झारखंड सरकार भी सक्रिय है. और लोगों को वापस लाने की कोशिश में जुटी है. Also Read - लॉकडाउन बढ़ने की बात सुन महिला ने खाया ज़हर, ससुराल से मायके न जा पाने से थी परेशान

इससे पहले आज ही 1200 मजदूर झारखंड पहुंच रहे हैं. ये मजदूर तेलंगाना के लिंगमपल्ली से झारखंड के हटिया पहुंच रहे हैं. मजदूरों के लिए स्‍पेशल ट्रेन चलवाई गई है. 24 मार्च को लगे लॉकडाउन के बाद ये पहला मौका है जब कोई यात्री ट्रेन चलाई गई है, और वह भी मजदूरों के लिए. 24 बोगियों वाली यह ट्रेन शुक्रवार सुबह चार बजकर 50 मिनट पर रवाना हुई. Also Read - दिल्ली सरकार ने केंद्र से मांगे 5000 करोड़ रुपए, कहा- हमें खर्च के लिए ज़रूरत है

झारखंड ही नहीं कई राज्य हैं, जहां के लोग देश में अलग-अलग जगहों पर फंसे हुए हैं. यूपी सरकार ने कुछ दिन पहले ही राजस्थान के कोटा से हज़ारों छात्रों को 22 बसें भेजकर निकला था. नोएडा प्रशासन ने भी छात्रों को घर जाने की छूट देने का ऐलान किया है, इसके लिए फॉर्म भी जारी किया है.