नई दिल्ली: विधानसभा चुनावों के नजदीक आते ही सभी पार्टी के नेताओं के राजनीतिक तेवर बदले-बदले से दिखने लगे हैं. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने असद्दुदीन ओवैसी और उनकी पार्टी AIMIM पर निशाना साधा है. कूचबिहार में एक रैली को संबोधित करते हुए बनर्जी ने ओवैसी पर निशाना साधा. मुख्यमंत्री ने यहां अल्पसंख्यक कट्टरता को लेकर चेतावनी दी है. साथ ही उन्होंने लोगों से अपील की कि वे असद्दुदीन ओवैसी जैसे नेताओं पर भरोसा न करें.

बता दें कि एक जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने ओवैसी पर निशाना साधते हुए कहा कि हैदराबाद से आने वाली एक पार्टी के नेता लोगों में बंटवारा पैदा कर रहे हैं और इसे बढ़ावा भी दे रहे हैं. मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि ये लोग हैदराबाद से आते हैं और इस इलाके में रैलियां कर रहे हैं. इस तरह के लोग अल्पसंख्यकों की सुरक्षा का दावा करते हैं और उनके हितों की बात करते हैं लेकिन ऐसे लोगों के बहकावे में ना आएं. मुख्यमंत्री ने ओवैसी और उनकी पार्टी पर आरोप लगाते हुए कहा कि ये लोग भाजपा से पैसे भी लेते हैं.

ममता बनर्जी के बयान पर पलटवार करते हुए ओवैसी ने उन्हें आड़े हाथों लिया. ओवैसी ने ट्वीट कर कहा- मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की टिप्पणी उनके डर को जाहिर कर रही है. इससे पता चलता है कि वो हताश हो चुकी हैं क्योंकि उनके राज्य पश्चिम बंगाल AIMIM एक जबरदस्त ताकत बन चुकी है. ओवैसी ने कहा कि आप बंगाल के मुसलमानों को संकेत दे रही हैं कि हमारी पार्टी कितनी मजबूत हो चुकी है पश्चिम बंगाल में और इसका अंदेशा आपके बयानों से लगाया जा सकता है.

ओवैसी ने एक ट्वीट कर कहा- पश्चिम बंगाल के मुसलमानों की हालत सबसे ज्यादा खराब है. ममता बनर्जी को घेरते हुए उन्होंने कहा कि हमपर भाजपा से पैसे लेने का आरोप लगाया गया है. दीदी आप बता दीजिए आखिर भाजपा बंगाल में लेकसभा चुनाव में 42 में 18 सीट कैसे जीत गई. बता दें कि औवेसी हैदराबाद से लोकसभा सांसद हैं. बीते दिनों उन्होंने NRC मुद्दे पर भी अपनी बातों को बेबाकी से सरकार व लोगों के सामने रखा था.

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में 2021 में विधानसभा चुनाव होना है. सभी राजनीतिक दल अपनी तैयारियों में अभी से लग चुकी हैं. लोकसभा चुनाव में जिस तरह बीजेपी ने बड़ी जीत हासिल की उसके बाद टीएमसी और भी चौकन्ना हो गई है.