नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को यहां केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की. तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी नॉर्थ ब्लॉक स्थित शाह के कार्यालय में उनसे मिलने पहुंचीं. पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात पर कहा कि उन्होंने पश्चिम बंगाल में एनआरसी के बारे में कुछ नहीं कहा. मैंने पहले ही अपना रुख स्पष्ट कर दिया है कि पश्चिम बंगाल में NRC की जरूरत नहीं है.

सीएम ममता बनर्जी ने कहा, मैंने उन्हें ( केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह) को एक पत्र सौंपा, जिसमें उन्हे बताया कि एनआरसी से छूटे हुए 19 लाख लोगों में से कई हिंदी भाषी, बंगाली भाषी और स्थानीय असमी हैं. कई वास्तविक मतदाताओं को छोड़ दिया गया है. इस पर गौर किया जाना चाहिए. मैंने उन्‍हें एक आधिकारिक पत्र प्रस्तुत किया है.

बता दें कि ममता ने कल प्रधानमंत्री से बुधवार को मुलाकात की थी और राज्य का नाम बदलने को लेकर चर्चा की. बनर्जी ने प्रधानमंत्री को आने वाले दिनों में पश्चिम बंगाल में एक कोयला ब्लॉक के उद्घाटन के लिए भी आमंत्रित किया.

एक दिन पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी
शाह से मिलने से एक दिन पहले तृणमूल कांग्रेस की नेता ममता बनर्जी ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी. इस दौरान ज्यादातर विकास के मुद्दों पर चर्चा की गई थी, लेकिन एनआरसी प्रक्रिया पर चर्चा नहीं हुई थी. अपने राज्य में राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) लागू करने के खिलाफ बनर्जी ने कहा कि इस प्रक्रिया में असली नागरिकों की सूची तैयार करने का प्रावधान पश्चिम बंगाल पर लागू नहीं होता.

राज्‍य के विकास की योजनाओं पर बात की थी 
प्रधानमंत्री के आवास पर हुई यह मुलाकात करीब आधे घंटे तक चली थी. बनर्जी ने कहा कि चर्चा राजनीतिक नहीं थी, लेकिन राज्य के विकास के मुद्दों पर बात की गई. उन्होंने बताया था, प्रधानमंत्री से एनआरसी के बारे में बात नहीं की. एनआरसी असम समझौते का हिस्सा है इसलिए पूरे देश या पश्चिम बंगाल में इसे लागू करने का कोई प्रावधान नहीं है. न ऐसा कोई प्रस्ताव आया है न बंगाल में ऐसा किया जाएगा.

बंगाल को नया नाम देना हमारा एजेंडा
तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ने यह भी बताया था कि उन्होंने पश्चिम बंगाल को नया नाम देने का मुद्दा भी उठाया और बताया कि मोदी इस विचार से असहमत नहीं हैं. उन्होंने कहा, बंगाल को नया नाम देना हमारा मुख्य एजेंडा है इसलिए हमने बांग्ला को ध्यान में रखते हुए प्रस्ताव दिया है.

पीएम ने द‍िया मदद का भरोसा
प्रधानमंत्री ने हरसंभव मदद का आश्वासन दिया है. मैंने उन्हें बताया कि बंगाल के लोगों की भावनाएं इस मुद्दे से जुड़ी हैं और हम केंद्र से सुझाव मिलने के लिए तैयार हैं. पश्चिम बंगाल विधानसभा ने राज्य को नया नाम बांग्ला देने के प्रस्ताव को पारित कर दिया है.

पीएम कोयला ब्लॉक का उद्घाटन करने का निमंत्रण भी दिया
बनर्जी ने बताया कि प्रधानमंत्री को नवरात्र और दुर्गा पूजा के बाद दुनिया के दूसरे सबसे बड़े कोयला ब्लॉक देवचा पचामी का उद्घाटन करने का निमंत्रण भी दिया गया. इसमें 12,000 करोड़ रुपए का निवेश किया जाएगा. हमने इसके लिए 50,000 करोड़ रुपए की सुरक्षा राशि जमा कराई है. सभी बंदोबस्त कर लिए गए हैं. मैंने नवरात्रि और दुर्गा पूजा के बाद जब भी उन्हें वक्त मिले तब इसका उद्घाटन करने का न्योता दिया है. उन्होंने राजनीतिक स्थिति पर बहुत कम बात की. पीएमओ ने मोदी के आधिकारिक आवास पर दोनों नेताओं की मुलाकात की तस्वीरें ट्वीट कीं. बनर्जी को प्रधानमंत्री को फूलों का गुलदस्ता भेंट करते हुए देखा गया.