भुवनेश्वर: ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने लद्दाख में शहीद हुए प्रदेश के दो सैनिकों के परिजनों को 25-25 लाख रुपये अनुदान के रूप में देने की घोषणा बुधवार को की. मुख्यमंत्री कार्यालय के एक अधिकारी ने कहा कि लद्दाख में गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हुई हिंसक झड़प में राज्य के दो सैनिकों की शहादत के प्रति गहरा दुख व्यक्त करते हुए पटनायक ने मुख्यमंत्री राहत कोष से अनुदान देने की घोषणा की. Also Read - पैंगोंग झील और डेपसांग से अभी तक पीछे नहीं हटे चीनी सैनिक, जानिए क्या पूरा मामला

लद्दाख में हुई झड़प में ओडिशा के कंधमाल जिले के बीआरपंजा गांव के निवासी चंद्रकांत प्रधान (28) और मयूरभंज जिले के रायरंगपुर क्षेत्र के नायब सूबेदार नंदूराम सोरेन (43) शहीद हो गए थे. इस झड़प के बाद भारतीय सेना की तरफ से भी कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की गई. सेना ने एक आधिकारिक बयान में कहा कि बहादुर जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा. सेना देश की संप्रभुता और अखंडता की रक्षा के लिए मजबूती से खड़ी है. पूरी सेना बहादुर जवानों के त्याग को सलाम करती है. Also Read - हॉट स्प्रिंग्स और गोगरा में भारत-चीन की सेनाओं ने पीछे हटना शुरू किया: रिपोर्ट

बता दें कि गलवान घाटी में चीनी सैनिक और भारतीय सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे. चीन के भी कुछ सैनिक मारे गए हैं लेकिन चीन की सरकार की तरफ से इस बारे में कोई भी खुलासा नहीं किया गया. इस हिंसक झड़प के बाद से भारत सरकार ने सख्त रुख अपना हुआ है. Also Read - विदेश सचिव बोले- भारत कूटनीतिक और सैन्य स्तर के माध्यमों से कर रहा है चीन के साथ बातचीत

बुधवार को पीएम मोदी ने चीन को सख्त चेतावनी भी दी है. उन्होंने कहा कि भारत ने कभी भी किसी देश को उकसाया नहीं है. भारत ने हमेशा सभी की अच्छाई के लिए कामना की है लेकिन जब भी हमें कोई उकसाएगा तो हम इसका जवाब भी देना जानते हैं. उन्होंने कहा कि भारत संप्रभुता और अखंडता से कभी भी समझौता नहीं करेगा.