केवडिया: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को गुजरात के नर्मदा जिले में स्थित स्टैच्यू आफ यूनिटी का दौरा किया. सरदार सरोवर बांध के निकट देश को एकता के सूत्र में पिरोने वाले सरदार पटेल की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा स्थापित की गई है जिसे स्टैचू आफ यूनिटी नाम दिया गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 31 अक्टूबर को सरदार पटेल की 143 वीं जयंती के मौके पर इस प्रतिमा का अनावरण किया था, जिसे दुनिया में सबसे ऊंची प्रतिमा माना जा रहा है.

स्टैचू आफ यूनिटी के दौरे पर योगी ने आयोध्या में राम मंदिर बनाने के मुद्दे पर पूछे गए मीडिया के सवालों का जवाब देने से इंकार कर दिया. गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी इस मौके पर योगी के साथ थे. योगी ने 17 किलोमीटर लंबी ‘फूलों की घाटी’ और पर्यटकों के रहने के लिए बनाई गई टेंट सिटी का भी दौरा किया. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने पटेल की इस असाधारण प्रतिमा के निर्माण तथा उसके आस-पास लोगों को आकर्षित करने वाले अन्य निर्माण कार्य के लिए राज्य सरकार के प्रयासों की सराहना की.

मिलिए… दुनिया की सबसे ऊंची ‘द स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ के मूर्तिकार राम सुतार से

आदित्यनाथ ने कहा कि दुनिया की यह सबसे ऊंची प्रतिमा देश के सच्चे ‘सरदार’ को सबसे उचित श्रद्धांजलि है. रूपाणी और कई अन्य मंत्रियों ने विभिन्न राज्यों में जा कर वहां के मुख्यमंत्रियों को अनावरण समारोह में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया था. रूपाणी स्वयं लखनऊ गए थे और मख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को इसके लिए आमंत्रित किया था. सरकारी सूत्रों ने बताया कि राष्ट्रपति 15 दिसंबर को स्टैचू आफ यूनिटी आ सकते हैं. अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों के यहां आने की तिथि अभी तय नहीं है.