संयुक्त राष्ट्र. अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में बुधवार को एक मसौदा प्रस्ताव भेजा जिसमें पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद के सरगना अजहर मसूद को प्रतिबंधित करने की बात की गई है. इस कदम के बाद अमेरिका के संयुक्त राष्ट्र में चीन के साथ संभावित टकराव की स्थिति बन गई है. चीन ने अजहर को संयुक्त राष्ट्र की प्रतिबंध सूची में शामिल करने के प्रयास में इस महीने की शुरुआत में अड़ंगा डाल दिया था. Also Read - पीएम नरेंद्र मोदी इस दिन संयुक्त राष्ट्र महासभा को कर सकते हैं संबोधित, 75 साल में पहली बार होने जा रहा है ऐसा

संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंध समिति में यह प्रयास अटक जाने के बाद अमेरिका अजहर को प्रतिबंधित करने के प्रस्ताव को लेकर सीधे सुरक्षा परिषद पहुंच गया. कश्मीर में 14 फरवरी को हुये जैश के एक आत्मघाती हमले में 40 जवान शहीद हुये थे. इस हमले के बाद भारत और पाकिस्तान में तनाव बढ़ गया है. Also Read - Pulwama Terror Attack: NIA की 5,000 पन्नों की चार्जशीट में जैश सरगना मसूद अजहर, उसके भाई को बनाया गया आरोपी- रिपोर्ट

हमले की निंदा की
मसौदा प्रस्ताव में इस आत्मघाती हमले की निंदा की गई है और निर्णय किया गया है कि अजहर को संयुक्त राष्ट्र के अल-कायदा एवं इस्लामिक स्टेट प्रतिबंधों की काली सूची में रखा जाएगा. यह स्पष्ट नहीं है कि मसौदा प्रस्ताव पर मतदान कब होगा। इस पर चीन वीटो कर सकता है. परिषद के पांच स्थायी सदस्यों में ब्रिटेन, फ्रांस, रूस और अमेरिका के साथ चीन शामिल है. Also Read - नेपाल को UN से मिला बड़ा झटका, विवादास्पद मानचित्र को मान्यता देने से किया इनकार!