उत्तराखंड में कांग्रेस और बीजेपी के बीच की तकरार थमने का नाम नहीं ले रही है। एक दूसरे पर इल्जाम लगने में कोई भी किसी से पीछे नहीं छूट रहा है। बल्कि एक दूसरे को दोषी साबित करने का कोई भी मौका कांग्रेस और बीजेपी नहीं छोड़ रहे है। वहीं राज्य कांग्रेस के अध्यक्ष किशोर उपाध्यय ने आरोप लगाया कि कांग्रेस के सात विधायकों को पार्टी के खिलाफ भड़काने की कोशिश की गई थी। ऐसा करने के लिए बीजेपी ने 50 करोड़ रुपये देने का लालच भी दिया था। Also Read - VIDEO: TMC से BJP में शामिल होने के बाद मंच पर ही 'उठक-बैठक' करने लगे नेता, वजह भी बताई

Also Read - Assam Assembly Election 2021: कांग्रेस का वादा- सरकार बनी तो नौकरियों में महिलाओं को देंगे 50 प्रतिशत आरक्षण

आपको बतादें की यह पूरा मामला विधायकों की खरीद फरोख्त से जुड़ा है। आरोप यह है की बीजेपी ने विधायकों को अयोग्य घोषित होने पर राज्यसभा में भेजने और उनके करीबियों को विधानसभा का टिकट देने का भी वादा किया था। वहीं इस पुरे मामले के लिए उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय पर भी निशाना साधा और आरोप लगाया कि राज्य के राजनीतिक घटनाक्रम की साजिश उन्होंने ही रची थी। यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: 9 बागी विधायकों की सदस्यता पर सुनवाई आज Also Read - Maharashtra News: विधानसभा अध्यक्ष पद खाली रहने के मुद्दे पर महाराष्ट्र विधानसभा में हंगामा

इन सारे विवादों के बीच में बीजेपी ने कांग्रेस पर वार करते हुए यह कहा है की उन्हें ना कांग्रेस के विधायकों की न जरूरत है और न चाहत। यह भी कहा की खुद को साफ़ बताने वाली कांग्रेस यह सब साजिश कर रही है बीजेपी का नाम ख़राब करने के लिए। वहीं बीजेपी ने कांग्रेस के सारे आरोपों को गलत करार करते हुए खुद को इस सारे मामले से अलग बताया है।