शिमला: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शुक्रवार को यहां विपक्षी कांग्रेस पर हमला बोला और आरोप लगाया कि वह संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) को लेकर लोगों को गुमराह कर रही है. उन्‍होंने कहा, कहा, ‘‘कांग्रेस एंड कंपनी अफवाह फैला रही है कि मुसलमानों की नागरिकता जा सकती है. उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि कानून में नागरिकता छीनने का कोई प्रावधान नहीं है.

शाह ने यहां राज्य की मौजूदा भाजपा सरकार की दूसरी वर्षगांठ के उपलक्ष्य में ऐतिहासिक रिज मैदान में आयोजित कार्यक्रम में कहा, ‘‘कांग्रेस एंड कंपनी अफवाह फैला रही है कि मुसलमानों की नागरिकता जा सकती है.’’

बीजेपी अध्‍यक्ष ने कहा, ”मैं राहुल बाबा को चुनौती देता हूं कि मुझे बताएं कि क्या कानून में किसी की नागरिकता लेने से संबंधित कोई एक भी लाइन है. सीएए को लेकर गुमराह न करें, लोगों को न बांटें.”

शाह ने कहा कि वह अल्पसंख्यकों, खासकर मुसलमानों से कहना चाहते हैं कि वे सीएए को पढ़ें जो अब सरकार की वेबसाइट पर उपलब्ध है. उन्होंने कहा, कानून का अध्ययन करिए. किसी की नागरिकता नहीं जाएगी.

गृह मंत्री ने कहा कि सीएए पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में धार्मिक प्रताड़ना के शिकार अल्पसंख्यकों को नागरिकता उपलब्ध कराएगा. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान अल्पसंख्यकों के धार्मिक और अन्य अधिकारों की रक्षा करने से जुड़े नेहरू-लियाकत समझौते को क्रियान्वित करने में विफल रहा. इसकी वजह से नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार को संसद में कानून लाना पड़ा.

शाह ने शिमला में 13,500 करोड़ रुपए से अधिक की लागत वाली परियोजनाओं के शिलान्यास समारोह में भी हिस्सा लिया.