नई दिल्ली: कांग्रेस ने भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) के निजीकरण से जुड़े कदम को लेकर रविवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा और सवाल किया कि ‘देश नहीं बिकने दूंगा’ की बात करने वाले अब मुनाफे में चल रही बीपीसीएल को क्यों बेच रहे हैं? Also Read - लोगों को लाने के लिए विमान का प्रयोग तो गरीबों के लिए बस का क्यों नहीं : कांग्रेस


पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा, ‘‘कहते हैं कि देश नहीं बिकने दूंगा. तो फिर लाभ कमाती बीपीसीएल की बिक्री क्यों ? बीपीसीएल ने दिसंबर में 2051.53 करोड़ रुपये का मुनाफ़ा सरकार को दिया.’’ उन्होंने सवाल किया, ‘‘ मोदी सरकार ने बीपीसीएल में अपनी 53 फीसदी की सारी हिस्सेदारी बेचने के लिए निविदा मांगी हैं. क्या यह भी क्रोनी पूंजीवादी मित्रों से किया चुनावी वादा है?’’

दअरसल, देश में सबसे बड़ी निजीकरण पहल के तहत सरकार ने शनिवार को दूसरी सबसे बड़ी तेल रिफाइनरी कंपनी बीपीसीएल में अपनी पूरी 52.98 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने के लिए बोलियां आमंत्रित की. निवेश और लोक परिसंपत्ति प्रबंधन विभाग (डीआईपीएएम) के बोली दस्तावेज के मुताबिक बीपीसीएल की रणनीतिक बिक्री के लिए दो मई तक रुचि पत्र सौंपे जा सकते हैं.