नई दिल्ली। पीओके में 636 दिन पहले अंजाम दिए गए सर्जिकल स्ट्राइक का नया वीडियो आते ही कांग्रेस ने बीजेपी और मोदी सरकार पर हमला बोलना शुरू कर दिया है. कांग्रेस ने सरकार पर सेना के नाम पर वोट जुटाने का आरोप लगाया है. कांग्रेस ने सैनिकों की शहादत पर राजनीति नहीं करने की नसीहत भी दी. Also Read - चीन के साथ तनाव के बीच सेना का बड़ा कदम, इजराइल से खरीदे ड्रोन को लेजर-गाइडेड मिसाइलों से लैस करेगा भारत

Also Read - Jammu-Kashmir: पुंछ में पाकिस्तान ने दागे गोले, कुलगाम में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच शुरू हुई मुठभेड़

सुरजेवाला बोले, सरकार उठा रही फायदा Also Read - इंडियन आर्मी ने पीओके की लीपा वैली में आतंकी लॉन्‍चपैड तबाह किया? वीडियो-फोटो हुए वायरल

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि मोदी सरकार जय जवान जय किसान नारे का सियासी शोषण कर रही है और सर्जिकल स्ट्राइक के जरिए वोट जुटाने की कोशिश में है. देश की जनता उनसे जानना चाहती है कि क्या अटल बिहारी वाजपेयी और मनमोहन सिंह ने आर्मी ऑपरेशन की सफलता का फायदा उठाया था?  सर्जिकल स्ट्राइक के वीडियो की जरूरत नहीं थी. देश सेना का सम्मान करता है.

Exclusive: हमले के 636 दिन बाद सामने आया सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो

सुरजेवाला ने कहा, सत्ताधारी पार्टी को याद रखना होगा कि वह सैनिकों की शहादत का इस्तेमाल वोटों के लिए नहीं कर सकती. सैनिकों ने देश के लिए अपनी शहादत दी है और मोदी जी का महिमामंडन हो रहा है. सैनिकों के शौर्य को भुनाया गया. सुरजेवाला ने कहा, देश के लोगों को सावधान रहना होगा क्योंकि जब भी मोदी सरकार नाकाम होती दिखती है, अमित शाह जी की बीजेपी हारने लगती है तब सेना को ढाल बनाया जाता है. वहीं, सलमान खुर्शीद ने कहा कि बीजेपी सेना के साहस का फायदा उठाना चाहती है.

बीजेपी का पलटवार

सरकार की तरफ से मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि कांग्रेस संवेदनशील मुद्दों पर सियासत कर रही है. सरकार किसी तरह का राजनीतिक फायदा नहीं उठाना चाहती है. जबकि सुब्रमण्यन स्वामी ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस ऐसे वीडियो जारी कर ही नहीं सकती क्योंकि उसके पास इस तरह के सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो है ही नहीं.

21 महीने पहले दिया गया था अंजाम

बता दें कि करीब 21 महीने पहले पीओके में अंजाम दिए गए सर्जिकल स्ट्राइक का नया वीडियो सामने आया है. इसमें दिख रहा है कि किस तरह भारतीय कमांडो पाकिस्तानी आतंकियों और उनके कैंप को तबाह कर रहे हैं. ये सर्जिकल स्ट्राइक 28-29 सितंबर 2016 की अमावस रात को अंजाम दिया गया था. खास बात ये थी कि इसमें कोई भी भारतीय सैनिक हताहत या घायल नहीं हुआ था. ऑपरेशन के बाद कमांडो के वापस आते ही सेना ने पाकिस्तानी सेना को इसके बारे में बता दिया था.

150 कमांडो ने लिया था हिस्सा

सेना के अधिकारी DGMO ले. जनरल रनवीर सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में खुलासा करते हुए कहा था कि भारतीय सेना ने आतंकियों के खिलाफ सफल सर्जिकल ऑपरेशन को अंजाम दिया है. उन्होंने बताया कि किस तरह सैनिकों ने इसे सफल अंजाम दिया था. करीब 150 कमांडो ने इसमें हिस्सा लिया था. अत्याधुनिक हथियारों और साजों सामान से लैस जवानों ने पीओके में प्रवेश कर आतंकियों पर हमला किया. उन्हें संभलने का मौका तक नहीं मिला. हमले में रॉकेट लॉन्चर, मशीनगन सहित अत्याधुनिक हथियारों का इस्तेमाल हुआ था.