नई दिल्ली: माकपा ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की देश भर में मंदिरों की यात्रा का जिक्र करते हुए आगाह किया है कि कांग्रेस अगर ‘सॉफ्ट हिंदुत्व’ के सहारे भाजपा को हराने की रणनीति अपना रही है तो यह उसकी भूल साबित होगी. माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी ने पार्टी के मुखपत्र पीपुल्स डेमोक्रेसी के संपादकीय लेख में कहा ‘अगर कांग्रेस यह सोचती है कि सॉफ्ट हिंदुत्व के सहारे वह भाजपा को हरा देगी तो यह उसकी भूल साबित होगी.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और राजस्थान में राहुल गांधी के मंदिरों के दर्शन कर यह संदेश देने की कोशिश की है कि कांग्रेस भाजपा से अधिक हिंदू है. येचुरी ने कहा ‘लेकिन भाजपा इन तीनों राज्यों में रोजगार, किसानों का गुस्सा, मूलभूत सुविधाओं का अभाव और भ्रष्टाचार के मुद्दे पर चुनाव हारेगी.

येचुरी ने कहा कि मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र में प्रत्येक पंचायत में गौशाला खोलने, गौमूत्र की बिक्री करवाने और ‘राम वन गमन पथ’ बनवाने की बात कही है. इसी तरह राजस्थान में कांग्रेस के घोषणापत्र में शैक्षणिक पाठ्यक्रम में वैदिक मूल्यों को बढ़ावा देने की बात कही गयी है. इतना ही नहीं कांग्रेस के प्रचार अभियान के दौरान भीड़ द्वारा निर्दोष पहलू खान सहित अल्पसंख्यक समुदाय के अन्य लोगों को मार डालने की घटनाओं का मुद्दा जोर शोर से उठाने की अनिच्छा की भी साफ झलक दिखी.

लेख में उन्होंने कहा कि सिर्फ धर्मनिरपेक्ष लोकतांत्रिक विकल्प के लिये देशव्यापी संघर्ष के बलबूते ही भाजपा आरएसएस को हराया जा सकता है. साथ ही राम मंदिर के नाम पर सांप्रदायिक जलसों के समानांतर देश भर में लोगों को धर्मनिरपेक्षता की खातिर जनआंदोलन के लिये एकजुट करना होगा.

गौरतलब है कि 5 राज्यों में चुनाव प्रचार के दौरान राहुल गांधी जहां-जहां गए वहां मंदिरों में दर्शन के लिए भी गए. इतना ही नहीं इन राज्यों के चुनाव के दौरान राहुल गांधी के गोत्र को लेकर भी सवाल पूछे गए जिसका जवाब उन्होंने दिया. और अपना गोत्र बताया. राहुल ने हिन्दुत्व को लेकर पीएम मोदी की समझ पर भी सवाल उठाए थे.