दिल्ली. पीएनबी घोटाले में आज केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि नीरव मोदी और मेहुल चौकसी का पूरा मामला कांग्रेस से जुड़ी हुई है. यह पूरी फ्रॉड की घटना कांग्रेस सरकार के दौरान से शुरु हुई. कांग्रेस पूरे मामले में देश को गुमराह नहीं कर सकती है. हालांकि कांग्रेस ने पूरी घटना पर बीजेपी के ऊपर सवाल उठाया था. Also Read - पाकिस्तान में थरूर के बयान को लेकर घमासान, भाजपा बोली- राहुल गांधी को ‘राहुल लाहौरी’ कहेंगे

कांग्रेस ने बीजेपी पर सवाल उठाते हुए प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने अपने टि्वटर अकाउंट से कहा था कि क्या ललित मोदी और विजय माल्या की तरह नीरव मोदी को भी एफआईआर से पहले सूचना दे दी गई थी. इस बारे में कांग्रेस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बीजेपी पर कई आरोप लगाए थे.

पंजाब नेशनल बैंक में 11500 करोड़ रुपए से ज्‍यादा के घोटाले का आरोपी नीरव मोदी एफआईआर दर्ज होने से पहले ही देश से फरार हो गया था. शराब कारोबारी विजय माल्या की तरह किसी घोटाले के आरोपी के इस तरह फरार हो जाने को लेकर राजनीति गरमा गई. तीन जनवरी को पीएनबी प्रबंधन को मामले की जानकारी मिली तो उसने कार्रवाई शुरू की लेकिन इससे दो दिन पहले ही नीरव मोदी को भनक लग गई और वह विदेश फरार हो गया.

हालांकि, खबरों के मुताबिक इस मामले में एफआईआर दर्ज होने से पहले नीरव मोदी भारत छोड़कर जा चुका था. अरबपति हीरा कारोबारी नीरव फोर्ब्‍स की भारतीय अरबपतियों की 2017 की सूची में 57वें नंबर पर है. वह नीरव मोदी डायमंड ज्‍वेलरी रिटेल स्‍टोर्स का संस्‍थापक भी है.