पणजी: कांग्रेस ने गोवा में शनिवार को सरकार बनाने का दावा पेश किया. पार्टी ने दावा किया है कि भाजपा विधायक फ्रांसिस डिसूजा के निधन के बाद मनोहर पर्रिकर सरकार ने विधानसभा में अपना बहुमत खो दिया है. गोवा की राज्यपाल मृदुला सिन्हा को लिखे एक पत्र में विपक्ष के नेता चंद्रकांत कावलेकर ने सरकार बनाने का दावा पेश किया और भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार को बर्खास्त किए जाने की मांग की. Also Read - West Bengal Assembly Election: कांग्रेस का ममता बनर्जी को बड़ा ऑफर, कहा- पश्चिम बंगाल में मिलकर चुनाव लड़े TMC, बीजेपी से...

भाजपा विधायक फ्रांसिस डिसूजा के निधन और दो विधायकों सुभाष शिरोडकर तथा दयानंद सोप्ते के इस्तीफे और विधायक फ्रांसिस डिसूजा के निधन के बाद 40 सदस्यीय विधानसभा की क्षमता अब घटकर 37 रह गई है. इस समय कांग्रेस के 14 विधायक हैं. भाजपा के विधायकों की संख्या 13 है. Also Read - TMC सांसद नुसरत जहां ने भाजपा को बताया दंगा कराने वाला, मुसलमानों को कहा- उल्टी गिनती शुरू..

पीएम मोदी की मौजूदगी में BJP चुनाव समिति की बैठक जारी, प्रत्याशियों की हो सकती है घोषणा Also Read - कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस का प्रदर्शन, राहुल-प्रियंका भी हुए शामिल, कहा- पूंजीपतियों को फायदा पहुंचा रही बीजेपी

गोवा फारवर्ड पार्टी, एमजीपी के तीन-तीन विधायक और एक निर्दलीय तथा राकांपा के एकमात्र विधायक का भाजपा को समर्थन हासिल है. राज्यपाल को लिखे पत्र में कावलेकर ने कहा, ‘‘भाजपा से संबंध रखने वाले विधायक फ्रांसिस डिसूजा के दुखद निधन के मद्देनजर आपको विनम्रतापूर्वक सूचित किया जा रहा है कि मनोहर पर्रिकर के नेतृत्व में राज्य सरकार सदन में बहुमत खो चुकी है.’’

पत्र में कहा गया है, ‘‘हमारा अनुमान है कि भाजपा की संख्या में और कमी आयेगी और अल्पमत में होने वाली इस तरह की पार्टी को सत्ता में बने रहने की अनुमति नहीं दी जा सकती है.’’ उन्होंने पत्र में कहा, ‘‘इसलिए यह आप पर निर्भर है कि आप भाजपा के नेतृत्व वाली राज्य सरकार को बर्खास्त करें और यह सुनिश्चित करें कि भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी, जो सदन में सबसे बड़ी पार्टी है और वर्तमान में जिसके पास बहुमत है, उसे सरकार बनाने के लिए बुलाया जाये.’’

केंद्रीय मंत्री उमा भारती का अमित शाह से अनुरोध- ‘मुझे टिकट न दें, अब गंगा किनारे समय बिताना है’

पत्र में कहा गया है, ‘‘इसलिए हम राज्य में सरकार बनाने का अपना दावा पेश कर रहे है और मांग करते है कि भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार को बर्खास्त करके हमें तत्काल सरकार बनाने के लिए बुलाया जाये.’’ सोप्ते और शिरोडकर के इस्तीफे और डीसूजा के निधन के बाद रिक्त हुई विधानसभा सीटों पर उपचुनाव 23 अप्रैल को राज्य में होने वाले लोकसभा चुनावों के साथ ही होगा.