पणजी. गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के बीमार पड़ने और उनकी जगह भाजपा में सीएम पद के लिए नए नेता के चयन को लेकर बदले सियासी घटनाक्रम में कांग्रेस ने दावा किया है कि उसके पास सरकार बनाने के लिए जरूरी विधायकों का समर्थन है. गोवा की प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने बुधवार को दावा किया कि उसे 21 से ज्यादा विधायकों का समर्थन प्राप्त है और 40 सदस्यीय विधानसभा में सरकार बनाने के लिए वह मजबूत स्थिति में है. कांग्रेस 16 विधायकों के साथ तटवर्ती राज्य में सबसे बड़ी पार्टी है. गौरतलब है कि वह प्रदेश में सरकार बनाने का दावा पहले ही पेश कर चुकी है.

विपक्षी दल ने यह दावा ऐसे वक्त में किया है, जब मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर अग्नाशय संबंधी बीमारी के कारण दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में भर्ती हैं. राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता चन्द्रकांत कावलेकर ने बताया कि गोवा में सरकार बनाने के लिए कांग्रेस को पर्याप्त समर्थन प्राप्त है. उन्होंने कहा, ‘हमारे पास पर्याप्त संख्या है. मैं आपको यह नहीं बताऊंगा कि किसके साथ बातचीत चल रही है. हमें 21 विधायकों की जरूरत है और हमारे पास उससे ज्यादा हैं.’ कावलेकर के नेतृत्व में कांग्रेस विधायकों ने मंगलवार को राज्यपाल मृदुला सिन्हा से भेंट कर भारतीय जनता पार्टी नीत सरकार का विधानसभा में शक्ति परीक्षण कराने और उन्हें बहुमत साबित करने के लिए कहने का अनुरोध किया. बता दें कि गोवा कांग्रेस के अध्यक्ष चंद्रकांत कावलेकर ने बीते दिनों भी मीडिया के साथ बातचीत में यह दावा किया था कि उनकी पार्टी प्रदेश में सबसे ज्यादा विधायक वाली पार्टी है. कावलेकर ने मौजूदा भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा था कि प्रदेश में सरकार होते हुए भी सरकार नहीं है. इसलिए कांग्रेस पार्टी को सत्ता सौंपी जानी चाहिए.

बीमार मनोहर पर्रिकर कर चुके हैं इस्तीफे की पेशकश? इस वजह से सीएम पद से नहीं हटा रही बीजेपी

बीमार मनोहर पर्रिकर कर चुके हैं इस्तीफे की पेशकश? इस वजह से सीएम पद से नहीं हटा रही बीजेपी

कावलेकर ने कहा कि पार्टी को राज्यपाल के जवाब का इंतजार है. उन्होंने तीन-चार दिन में जवाब देने की बात कही थी. राज्य में भाजपा नीत गठबंधन सरकार में गोवा फॉरवार्ड पार्टी (जीएफपी), महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी), राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) और निर्देलीय विधायक शामिल हैं. विधानसभा में भाजपा के 14 विधायक हैं, जबकि जीएफपी और एमजीपी के तीन-तीन और राकांपा का एक विधायक है. तीन निर्दलीय विधायक भी हैं. बता दें कि विधानसभा चुनाव के बाद सबसे बड़ी पार्टी होने के बावजूद कांग्रेस को सरकार बनाने का मौका नहीं मिल पाया था. जबकि भाजपा ने गोवा की अन्य पार्टियों के साथ गठबंधन कर राज्यपाल के पास सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया. राज्यपाल ने भाजपा के पास विधायकों की पर्याप्त संख्या देखते हुए उसे सरकार बनाने की अनुमति दे दी थी. कांग्रेस इस घटनाक्रम को लेकर कई बार भाजपा की आलोचना कर चुकी है.

(इनपुट – एजेंसी)