बेंगलुरू: कांग्रेस ने एक ऑडियो क्लिप के लीक होने के बाद शनिवार को कर्नाटक की भाजपा सरकार को बर्खास्त किये जाने की मांग की. इस ऑडियो क्लिप में मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा को कथित तौर पर कांग्रेस-जनता दल (एस) के बागी विधायकों की अयोग्यता और भगवा पार्टी के केन्द्रीय नेतृत्व की कथित संलिप्तता का उल्लेख करते हुए सुना जा सकता है. भाजपा पर निशाना साधते हुए कांग्रेस के संगठन महासचिव के सी वेणुगोपाल ने नयी दिल्ली में पत्रकारों से कहा कि पार्टी इन ‘नये साक्ष्यों’ के साथ उच्चतम न्यायालय का रुख करेगी.

भाजपा ने हालांकि कहा कि मुख्यमंत्री के बयान को ‘‘संदर्भ से हटकर’’ पेश किया गया है. वायरल ऑडियो क्लिप में मुख्यमंत्री येदियुरप्पा को कथित तौर पर यह कहते हुए सुना जा सकता है कि कांग्रेस-जद (एस) गठबंधन सरकार के अंतिम दिनों में दोनों पार्टियों के बागी विधायकों को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की निगरानी में ही मुंबई में रखा गया. इन विधायकों को बाद में अयोग्य ठहरा दिया गया था.

कांग्रेस ने भारत के राष्ट्रपति से इस ऑडियो क्लिप के आधार पर गृह मंत्री अमित शाह को केन्द्रीय मंत्रिमंडल से हटाने की मांग की. विपक्षी नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरमैया तथा राज्य कांग्रेस प्रमुख दिनेश गुंडू राव के नेतृत्व में कांग्रेस नेताओं ने राज्यपाल वेजूभाई वाला से मुलाकात की और इस संबंध में उन्हें एक ज्ञापन सौंपा. उन्होंने कहा, ‘‘हमनें राज्यपाल से मुलाकात की और उनसे येदियुरप्पा सरकार को बर्खास्त किये जाने की मांग की.’’

राज्यपाल के साथ बैठक के बाद सिद्धरमैया ने पत्रकारों से कहा, ‘‘हमने भारत के राष्ट्रपति से भी यही आग्रह किया है और अमित शाह को केंद्रीय मंत्रिमंडल से बर्खास्त किया जाना चाहिए.’’ उन्होंने कहा, ‘‘इस ऑडियो क्लिप से स्पष्ट है कि भाजपा संविधान विरोधी गतिविधियों में लिप्त है. गृह मंत्री शाह सरकार को अंसवैधानिक रूप से गिराने के पीछे थे और मुंबई में विधायकों को लालच देकर फंसाया गया.’’ पूर्व मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया, ‘‘हम यह नहीं कर रहे हैं बल्कि मुख्यमंत्री येदियुरप्पा ने खुद यह स्वीकार किया है.’’

भगवा पार्टी पर निशाना साधते हुए वेणुगोपाल ने कहा, ‘‘हम कहते आ रहे हैं कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के तहत भाजपा विरोधी विधायकों को खरीदने और विरोधी दलों की सरकारों को अस्थिर करने के लिए प्रवर्तन निदेशालय, आईबी और सीबीआई जैसी सरकारी एजेंसियों का दुरुपयोग कर रही है.’’ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने कहा,‘‘ हम आशा करते हैं कि उच्चतम न्यायालय बहुत गंभीरता के साथ इस मामले पर संज्ञान लेगा और वे उसके अनुसार कार्रवाई करेंगे.’’

इस विवाद पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए भाजपा ने कहा कि मुख्यमंत्री को संदर्भ से हटकर पेश किया गया. भाजपा प्रवक्ता जी मधुसूदन ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, ‘‘कोई नहीं जानता है कि मुख्यमंत्री ने किस संदर्भ में क्या कहा था.’’ इस बीच जनता दल (एस) के नेता एच डी कुमारस्वामी ने कहा कि इस क्लिप से एक पार्टी के रूप में भाजपा बेनकाब हो गई. अब खुद येदियुरप्पा ने ‘‘सच उगल दिया है.’’

(इनपुट भाषा)