हैदराबाद/चंडीगढ़: लोकसभा चुनाव में करारी शिकस्त के बाद कांग्रेस की परेशानी बढ़ती जा रही है. दरअसल, तेलंगाना में पार्टी के 18 विधायकों में से दो-तिहाई 12 एमएलए ने गुरुवार को सत्तारूढ़ टीआरएस में अपने गुट के विलय का स्पीकर से अनुरोध किया. वहीं, तेलंगाना के बाद कांग्रेस को अपने करीब 6 राज्‍यों के संगठन में बड़ी टूट का खतरा बढ़ गया है और उसे कभी ऐसे खतरे से दो-चार होना पड़ सकता है. Also Read - UP पुलिस ने पूर्व एमपी धनंजय सिंह की तलाश में लखनऊ से दिल्ली तक छापे मारे

Also Read - Software Engineer लड़की ने शादी का प्रस्ताव ठुकराया, फिर प्रेमी ने किया कुछ ऐसा कि...

पंजाब में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह पर निशाना साधा और कैबिनेट की अहम बैठक में शामिल नहीं हुए. इसके अलावा हरियाणा, राजस्थान और मध्यप्रदेश में भी कांग्रेस के भीतर असंतोष के स्वर उभरे हैं. गुजरात कांग्रेस में भी बेचैनी दिखाई दे रही है. कर्नाटक में भी जेडीएस सरकार के साथ कांग्रेस के अंदर घमासान मचा हुआ है. पहले ही कुछ विधायक निशाने पर आ चुके हैं. Also Read - Chhattisgarh: महिला नक्सली की आत्महत्या को लेकर विपक्ष ने विधानसभा में मचाया हंगामा

कांग्रेस को बड़ा झटका, पार्टी को छोड़ तेलंगाना के 12 विधायक टीआरएस के साथ

एक ताजा घटनाक्रम में तेलंगाना में कांग्रेस के 18 में से 12 विधायकों ने बृहस्पतिवार को विधानसभा अध्यक्ष पी श्रीनिवास रेड्डी से मुलाकात की और राज्य में सत्तारूढ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) में अपने समूह के विलय के सिलसिले में उन्हें प्रतिवेदन दिया. तंदूर से कांग्रेस विधायक रोहित रेड्डी के पाला बदलने के बाद राज्य में कांग्रेस विधायक दल के दलबदलू विधायकों की संख्या 12 हो गई है. यह संख्या राज्य में पार्टी के कुल विधायकों (18) की संख्या की दो तिहाई है.

संविधान की 10 वीं अनुसूची के मुताबिक दलबदल रोधी कानून के तहत अयोग्य ठहराये बगैर एक नया राजनीतिक समूह बनाने या किसी अन्य राजनीतिक दल में ‘विलय’ के लिए पार्टी के कम से कम दो तिहाई विधायकों के अलग होने की जरूरत होगी.

रोहित रेड्डी के भी टीआरएस से हाथ मिलाने से पहले मार्च की शुरूआत से कांग्रेस के 11 विधायक अपना पाला बदल चुके हैं, जबकि इन विधायकों ने आधिकारिक तौर पर इस्तीफा नहीं दिया था. राज्य की 119 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस विधायकों की संख्या उस वक्त घट कर 18 रह गई थी, जब पार्टी की तेलंगाना इकाई के प्रमुख उत्तम कुमार रेड्डी ने हालिया आमचुनाव में नलगोंडा से लोकसभा के लिए निर्वाचित होने के बाद विधानसभा की सदस्यता से बुधवार को इस्तीफा दे दिया.

उत्तम कुमार रेड्डी ने कहा, यह पूरी तरह से अवैध है. केसीआर (टीआरएस प्रमुख एवं मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव) तेलंगाना की जनता के जनादेश को धोखा दे रहे हैं. उन्होंने दलबदलू विधायकों के ताजा कदम के बाद कांग्रेस विधायक दल के नेता एम भट्टी विक्रमार्का और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ विधानसभा परिसर में प्रदर्शन किया.

कैबिनेट मीटिंग में शामिल नहीं हुए सिद्धू, बोले- मुझे हल्के में नहीं लिया जा सकता

इससे पहले दिन में, कांग्रेस विधायक रोहित रेड्डी ने नाटकीय घटनाक्रम के तहत मुख्यमंत्री के बेटे और टीआरएस के कार्यवाहक अध्यक्ष के. टी. रामा राव से मुलाकात की और सत्तारूढ दल के प्रति अपनी वफादारी का संकल्प लिया. कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक जी वेंकट रमन रेड्डी ने संवाददाताओं को बताया कि 12 विधायकों ने राज्य के विकास के लिए मुख्यमंत्री के साथ मिलकर काम करने का फैसला किया है. उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष को एक प्रतिवेदन देकर टीआरएस में विलय का अनुरोध किया है.

राजस्थान कांग्रेस में नेताओं की बयानबाजी पर आलाकमान नाराज, गहलोत के खिलाफ बोलने वाले MLA को नोटिस

पंजाब

अमरिंदर ने हाल में कहा था कि वह लोकसभा चुनाव में पार्टी के प्रदर्शन को देखकर सिद्धू का स्थानीय शासन विभाग बदलना चाहते हैं. सिद्धू ने संवाददाताओं से कहा, ”मुझे हल्के में नहीं लिया जा सकता. मैंने अपने जीवन में 40 साल तक अच्छा प्रदर्शन करके दिखाया है, भले ही वह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की बात हो या ज्योफ्री बॉयकाट के साथ विश्वस्तरीय कमेंट्री की बात, टीवी कार्यक्रम की बात हो या 1300 प्रेरक वार्ताओं का मामला हो.” उन्होंने कहा कि पंजाब में पार्टी की जीत में शहरी इलाकों ने अहम भूमिका निभाई. उन्होंने आरोप लगाया कि उनके विभाग को निशाना बनाया जा रहा है.

सिद्धू ने कहा, मेरे विभाग पर सार्वजनिक रूप से निशाना साधा जा रहा हैं. मैंने हमेशा उन्हें बड़े भाई की तरह सम्मान दिया है. मैं हमेशा उनकी बात सुनता हूं. लेकिन इससे दुख पहुंचता है. सामूहिक जिम्मेदारी कहां गई? मुझे बुलाकर वह वो सब कह सकते थे, जो वह कहना चाहते थे.

हरियाणा

हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए महज कुछ ही महीने बचे होने के बावजूद राज्य में कांग्रेस की प्रदेश इकाई के अंदर मनमुटाव उभर कर सामने आ गया है. राज्य में पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के प्रति निष्ठा रखने वाले कुछ विधायकों ने हालिया लोकसभा चुनाव में प्रदेश में पार्टी के खराब प्रदर्शन को लेकर प्रदेश पार्टी प्रमुख अशोक तंवर को निशाने पर लिया है.

राजस्‍थान

कांग्रेस की राजस्थान इकाई में भी असंतोष के स्वर सुनने को मिल रहे हैं, जहां आम चुनाव में पार्टी को मिली करारी शिकस्त के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच कथित तौर पर आरोप-प्रत्यारोप शुरू हो गया है.

मध्‍य प्रदेश

मध्य प्रदेश से भी इसी तरह की खबरें आ रही है, जहां सत्तारूढ़ कांग्रेस अपने विधायकों को एकजुट रखने और शासन में बने रहने के लिए मशक्कत करती नजर आ रही है. राज्य में कांग्रेस नीत सरकार को बसपा और निर्दलीय विधायकों का समर्थन प्राप्त है.

गुजरात

गुजरात कांग्रेस में भी बेचैनी बढ़ रही है. दरअसल, राज्य में ये कयास लगाए जा रहे हैं कि पार्टी के कुछ विधायक भाजपा का दामन थाम सकते हैं.

कर्नाटक

कर्नाटक में हाल ही में सत्तारूढ़ कांग्रेस-जद (एस) गठबंधन सरकार के कुछ विधायकों के भाजपा से हाथ मिलाने की खबरें आने के बाद सरकार की स्थिरता के लिए गठबंधन को परेशानी का सामना करना पड़ा.