बेंगलुरू: कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस-जद (एस) मंत्रिमंडल का विस्तार छह जून को किया जाएगा. विभागों के बंटवारे को लेकर दोनों पार्टियों के बीच हुए समझौते के अंतर्गत 22 विभाग कांग्रेस के पास रहेंगे जबकि 12 विभाग जनता दल सेक्‍युलर को मिलेंगे. साथ ही दोनों दलों ने 2019 लोक सभा चुनाव साथ मिल कर लड़ने की घोषणा की है.

कांग्रेस ने वित्त विभाग अपनी सहयोगी पार्टी जद (एस) को देने का निर्णय किया है. दोनों के बीच यह एक अहम मुद्दा था. कांग्रेस महासचिव के सी वेणुगोपाल ने कुमारस्वामी और पार्टी के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे तथा पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरमैया की मौजूदगी में संवाददाता सम्मेलन में सत्ता साझा करने के समझौते की घोषणा की. वेणुगोपाल ने कहा कि पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी के निर्देश के अनुसार वित्त विभाग का प्रभार जद (एस) को दिया गया है. राहुल का कहना है कि ‘‘ यह गठबंधन सरकार देश के लिए इस वक्त की आवश्यकता है.

कर्नाटक में कैबिनेट गठन: राहुल-देवगौड़ा की फोन पर बात के बाद खत्‍म हुआ गतिरोध

साझा सत्ता समझौते के अनुसार कांग्रेस गृह, सिंचाई, बेंगलुरू शहर विकास, उद्योग एवं चीनी उद्योग, स्वास्थ्य, राजस्व, शहरी विकास, ग्रामीण विकास, कृषि, आवास, चिकित्सा शिक्षा, सामाजिक कल्याण, वन एवं पर्यावरण, श्रम, खान एवं भूविज्ञान जैसे विभाग अपने पास रखेगी. इसके अलावा कांग्रेस के पास महिला एवं बाल विकास, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति, हज, वक्फ एवं अल्पसंख्यक मामले, कानून एवं संसदीय मामले, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, सूचना तकनीक/बायो टेक्नोलॉजी, युवा, खेल एवं कन्नड संस्कृति, पत्तन और इनलैंड ट्रांसपोर्ट विकास विभाग भी होगा.

वहीं जद (एस) को वित्त, आबकारी, खुफिया, सूचना, योजना एवं सांख्यिकी, लोक निर्माण विभाग, बिजली, पर्यावरण, शिक्षा जैसे विभाग मिलेंगे. उन्होंने बताया कि शेष विभागों का बंटवारा मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री जी परमेश्वर के बीच विचार विमर्श के बाद होगा.

कर्नाटकः विभागों के बंटवारे पर मतभेद के बीच कांग्रेस ने कहा- जेडीएस के साथ चल रही बातचीत

उन्होंने कहा कि दोनों पार्टियां अगला लोक सभा चुनाव, चुनाव पूर्व गठबंधन के तौर पर लड़ेंगी. दोनों पार्टियों के बीच विभागों के बंटवारे को लेकर कई दिनों से विचार-विमर्श का दौर जारी था. गुरुवार रात में मुख्‍यमंत्री एच डी कुमारस्‍वामी की कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेताओं के साथ हुई बातचीत के बाद शुक्रवार को कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी और जदएस के वरिष्‍ठ नेता एच डी देवगौड़ा की टेलीफोन पर बातचीत हुई. इसके बाद विभागों के बंटवारे की तस्‍वीर साफ होने लगी.