नई दिल्लीः कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की विदेश यात्रा को लेकर भाजपा की ओर से सवाल उठाए जाने पर शनिवार को पलटवार किया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर यह कहते हुए परोक्ष कटाक्ष किया कि अगर कोई व्यक्ति छुट्टियों को बुरा एवं सुर्खियों में रहने को महत्वपूर्ण समझता है तो क्या सभी सांसदों को विदेश दौरे बंद कर देने चाहिए ?

राष्ट्रपति से लेकर सोनिया गांधी ने कुछ ऐसे दी छठ पूजा की शुभकामनाएं, देखें POSTS

सिंघवी ने कहा, ‘भाजपा पहले भी सस्ती राजनीति करती आई है. उसने फिर से किसी की निजी यात्रा के बारे में एक संवाददाता सम्मेलन कर सस्ती राजनीति का एक और उदाहरण दिया है.’ उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी की विदेश यात्राओं का परोक्ष हवाला देते हुए सवाल किया कि अगर कोई व्यक्ति छुट्टियों को बुरा समझता है या विदेश यात्राओं पर सुर्खियों में रहने को महत्वपूर्ण समझता है तो क्या इसका मतलब है कि सभी भारतीयों और सांसदों को यात्राएं बन्द कर देनी चाहिए, छुट्टियां नहीं लेनी चाहिए, पारिवारिक और सामाजिक सम्बंध नहीं रखने चाहिए?

राष्ट्रपति देश के संवैधानिक प्रमुख हैं.. वह किसी की जेब में नहीं हैंः संजय राउत

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, ‘अगर सांसदों को कोई सहयोग चाहिए तो विदेश यात्रा का विवरण बताना पड़ता है. लेकिन अगर कोई सहायता नहीं चाहिए तो फिर यात्रा का विवरण बताने की जरूरत नहीं होती.” गौरतलब है कि भाजपा के प्रवक्ता जी.वी.एल. नरसिम्हा राव ने बृहस्पतिवार को दिल्ली में एक प्रेसवार्ता कर कथित तौर पर कहा था कि राहुल गांधी अपने विदेश दौरों को सार्वजनिक क्यों नहीं करते? उन्होंने सवाल किया कि राहुल गांधी इस तरह के दौरों को गोपनीय क्यों रखना चाहते हैं?