नई दिल्लीः इराक के मोसुल में 38 भारतीयों की हत्या मामले पर बयान देने के दौरान लोकसभा में शोर-शराबे को लेकर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कांग्रेस पार्टी पर निशाना साधा है. सुषमा स्वराज ने कहा कि मैं बेहद आहत हूं कि मैं 38 लोगों की मौत की खबर बताने आई थीं, लेकिन शोर शराबे के चलते मैं लोकसभा में इसपर कुछ बोल नहीं सकी. मुझे सबसे ज्यादा दुख इस बात का है कि इस शोर शराबे का नेतृत्व कांग्रेस के ज्योतिरादित्य सिंधिया कर रहे थे. मैं पूछना चाहती हूं कि क्या कांग्रेस की संवेदना मर चुकी है.Also Read - विपक्षी दलों ने सांसदों के निलंबन की निंदा की, आगे की रणनीति के लिए मंगलवार को करेंगे बैठक

Also Read - Farm Laws News: राहुल गांधी का मोदी सरकार पर निशाना, कृषि कानूनों की वापसी पर बोले- चर्चा से डरती है सरकार

विदेश मंत्री के इस बयान पर कांग्रेस ने भी पलटवार किया है. कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला का कहना है कि इराक में मारे गए 39 भारतीयों के प्रति कांग्रेस संवेदना प्रकट करती है. लेकिन मोदी सरकार ने इस मामले में संवेदना नहीं दिखाई. जब पूरी दुनिया कह रही थी कि वे मारे जा चुके हैं तब मोदी सरकार ने देश और और परिजनों को भरोसा दिलाया कि वे जिंदा हैं. अगर इस मामले में कोई राजनीति कर रहा है वो हैं विदेश मंत्री सुषमा स्वराज. कांग्रेस ने आरोप लगाया कि सुषमा ने संसद और परिजनों को इस मामले में अंधेरे में रखा. जब फाउंडेशन ने एलान किया कि वे इस मामले को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस करने जा रहे हैं इसके बाद सरकार ने संसद में बयान दिया. Also Read - मॉनसून सत्र में हंगामे पर शीत सत्र में कार्रवाई, कांग्रेस, शिवसेना समेत इन पार्टियों के 12 राज्यसभा सांसद सस्पेंड; देखें List

क्या है मामला
5 जून, 2014 को इन भारतीयों को ISIS के आतंकियों ने बंधक बनाया था. पहाड़ी की खुदाई करवाकर इन शवों को निकाला गया. वहां से उनके हाथ के कड़े और बाल मिले हैं. 39 में से 31 पंजाब के रहने वाले थे. विदेशमंत्री ने कहा कि सभी शव इराक से वापस लाए जाएंगे.इराक के मोसुल में 2014 में अगवा किए गए 39 भारतीयों की हत्या हो चुकी है. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने राज्यसभा में यह बयान देते हुए कहा कि एक पहाड़ी पर सभी भारतीयों को दफना दिया गया था. उन्होंने कहा कि हरजीत मसीह की कहानी सच्ची नहीं थी. 39 में से 38 भारतीयों के शव को लाशों के ढेर से निकाल कर डीएनए टेस्ट किया गया. इसके बाद उनकी मौत की पुष्टि की गई. उन्होंने कहा कि मारे गए सभी भारतीयों का शव अमृतसर लाया जाएगा. शवों को राज्य सरकार को सौंपा जाएगा.