चंडीगढ़: जम्मू कश्मीर के पुलवामा में पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन के ‘‘कायरतापूर्ण’’ हमले की कड़ी निंदा करते हुए पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने शुक्रवार को पूछा कि क्या कुछ लोगों की करतूत के लिए पूरे देश को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है. जम्मू कश्मीर में सबसे घातक आतंकवादी हमलों में से एक में बृहस्पतिवार को सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे और पांच अन्य घायल हो गए थे. पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद के आत्मघाती हमलावर ने 100 किलोग्राम से अधिक विस्फोटक से लदे एक वाहन से पुलवामा जिले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के जवानों की बस को टक्कर मार दी. Also Read - CRPF Recruitment 2021: CRPF में बिना एग्जाम के ऑफिसर बनने का गोल्डन चांस, आवेदन करने की कल है आखिरी तारीख, जल्द करें अप्लाई

Also Read - Bihar: DIG पर नशे में लेडी डॉक्‍टर को बार-बार फोन करने का आरोप, CRPF ने दिया जांच का आदेश

आखिरी सलाम: PM मोदी शहीदों के पार्थिव शरीर के सामने हाथ जोड़कर चले, श्रद्धांजलि दी Also Read - CRPF Recruitment 2021: CRPF में बिना परीक्षा के बन सकते हैं अधिकारी, बस होनी चाहिए ये क्वालीफिकेशन

पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन जैश ए मोहम्मद जम्मू कश्मीर की राजधानी श्रीनगर से 20 किलोमीटर दूर हुए इस हमले की जिम्मेदारी ली है. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पद पर इमरान खान के पिछले साल हुए शपथ ग्रहण समारोह के लिए आमंत्रित क्रिकेटर से नेता बने सिद्धू ने कहा, ‘‘कुछ लोगों के लिए क्या आप पूरे देश को जिम्मेदार ठहरा सकते है और क्या आप किसी व्यक्ति को जिम्मेदार ठहरा सकते हो?’’

ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती के वंशज की मांग, अजमेर दरगाह आने से रोके जाएं पाकिस्तान के लोग

आतंकवादी हमले में सीआरपीएफ जवानों की मौत के प्रति एकजुटता दिखाते हुए पंजाब विधानसभा की कार्यवाही स्थगित होने के बाद सिद्धू ने यहां पत्रकारों से कहा, ‘‘यह कायरतापूर्ण कार्रवाई है और मैं सख्ती से इसकी निंदा करता हूं. हिंसा हमेशा निंदनीय है और जिन लोगों ने यह किया उन्हें सजा मिलनी चाहिए.’’ सिद्धू ने कहा कि आतंकवाद का कोई धर्म और उसकी कोई जाति नहीं होती. उन्होंने कहा, ‘‘पिछले 71 साल से यह सब हो रहा है. क्या वह कभी रूके हैं.’’ कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘मेरे लिए हिंसा हमेशा निंदनीय है. मैं हमेशा अहिंसा में विश्वास रखता हूं. किसी भी समस्या का समाधान हिंसा नहीं है. मेरे लिए आगे बढ़ने के लिए अहिंसा सबसे प्रबल हथियार है.