नई दिल्ली. कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद पर कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण समारोह से पहले मंत्रीमंडल बंटवारे सहित कामों के बंटवारे पर सहमति बनाने की कोशिश हो रही है. सूत्रों के अनुसार, कांग्रेस अपना स्पीकर और दो डिप्टी सीएम चाहती है. बताया जा रहा है कि कांग्रेस और जेडीएस के वरिष्ठ नेता मंगलवार को बेंगलुरु में बैठकर फाइनल डील कर लेंगे. Also Read - पटोले बोले भारत रत्न पर शिवसेना के अलग हमारा स्‍टैंड, सावित्रीबाई फुले, शाहूजी महाराज को मिलेे सम्‍मान

सूत्रों के अनुसार, कांग्रेस एक डिप्टी सीएम का पोस्ट जी परमेश्वर को देना चाहती है. वह दलित समुदाय से आते हैं. बताया जा रहा है कि विधानसभा चुनाव में 78 सीट जीतने वाली कांग्रेस 33 में से 20 मंत्रीमंडल अपने पास रखना चाहती है. Also Read - Assam Assembly Election 2021: कांग्रेस का वादा- सरकार बनी तो नौकरियों में महिलाओं को देंगे 50 प्रतिशत आरक्षण

राहुल-सोनिया से की मुलाकात
बता दें कि इससे पहले कुमारस्वामी ने सोमवार को दिल्ली में कई नेताओं से मुलाकात की. उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी से मुलाकात की और उन्हें अपने शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने का न्योता दिया. कुमारस्वामी के साथ पार्टी नेता दानिश अली भी मौजूद थे जबकि कांग्रेस की तरफ से राहुल और सोनिया के अलावा केसी वेणुगोपाल इस दौरान मौजूद रहे. Also Read - Maharashtra News: विधानसभा अध्यक्ष पद खाली रहने के मुद्दे पर महाराष्ट्र विधानसभा में हंगामा

सत्ता साझा नहीं होगी
कुमारस्वामी रविवार को ही कह चुके हैं कि कर्नाटक में सत्ता साझा करने पर कांग्रेस से कोई समझौता नहीं होगा. हालांकि कुमारस्वामी ने ये जरूर माना था कि कांग्रेस अध्यक्ष से मिलकर डिप्टी सीएम और कांग्रेस और जेडीएस के कितने विधायक गठबंधन सरकार में मंत्री बनेंगे इस पर जरूर चर्चा हो सकती है. कुमारस्वामी के दिल्ली पहुंचने से पहले ऐसी अटकलें लगाई जा रही थीं कि कुमारस्वामी दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष से मिलकर 30-30 महीने तक सरकार चलाने के फॉर्मूले पर बात करेंगे लेकिन कुमारस्वामी ने ऐसी किसी भी अटकल को साफ नकार दिया था.