नई दिल्‍ली: बीजेपी के सीनियर नेता और केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस पर नीरव मोदी और मेहुल चौकसी को बचाने की कोशिश करने का आरोप लगाया है. केंद्रीय मंत्री प्रसाद ने गुरुवार को एक वेब कॉन्‍फ्रेंस को संबंधित करते हुए यह बात कही. Also Read - West Bengal Assembly Election Live Updates: बंगाल में छठे चरण का मतदान जारी, दोपहर 1.30 बजे तक 57.30% वोटिंग

केंद्रीय मंत्री ने कहा, आज जब नरेंद्र मोदी सरकार नीरव मोदी को भारत लाने की कोशिश कर रही है तो कांग्रेस का एक सदस्य और पूर्व जज उसको बचाने की कोशिश कर रहा है. ये है कांग्रेस की असलियत है. Also Read - देवेंद्र फडणवीस के 23 वर्षीय भतीजे ने लगवाई कोरोना की वैक्सीन, कांग्रेस ने तस्वीर साझा कर किया हमला

कानून मंत्री प्रसाद ने कहा, कांग्रेश ने हमेशा नीरव मोदी या मेहुल चौकसी को बचाने की कोशिश की है. अब वह (Nirav Modi) गिरफ्तार हो चुका है और उसके खिलाफ प्रत्‍यर्पण की प्रक्रिया चल रही है, तो एक कांग्रेस सदस्‍य जो स्‍वयंम एक रिटायर्ड जज (Abhay Thipsay) हैं, कोर्ट में उसे (नीरव मोदी) बचा रहे हैं. Also Read - Covid-19 पर सियासी जंग: केंद्रीय मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने पूर्व पीएम मनमोहन पर किया पलटवार, पत्र ट्वीट कर कसा ये तंज

केंद्रीय मंत्री ने कहा, पूर्व न्यायाधीश अभय थिप्से, जो नीरव मोदी मामले में विशेषज्ञ गवाह के रूप में पेश हुए थे, राहुल गांधी और अशोक गहलोत की उपस्थिति में सेवानिवृत्ति के बाद कांग्रेस पार्टी में शामिल हो गए थे. ये वही जज हैं, जिन्‍हें सुप्रीम कोर्ट ने प्रशासनिक आधार पर सेवानिवृत्ति से 10 महीने पहले उन्हें मुंबई से इलाहाबाद स्थानांतरित कर दिया था.

केंद्रीय कानूनी मंत्री ने कहा कि ये मुंबई हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज हैं. इन्हें प्रशासनिक कार्यों के लिए रिटायमेंट के 10 महीने पहले इलाहाबाद हाईकोर्ट ट्रांसफर किया गया था, रोचक बात है कि इन्होंने 13 जून 2018 को कांग्रेस की सदस्यता ली थी.

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि नीरव मोदी से संबंधित मामले कांग्रेस के शासन के हैं. ये अधिकांश सब यूपीए-1 और यूपीए-2 में हुआ था. श्रीमान राहुल गांधी जी ने 13 सितंबर 2013 को नीरव मोदी के एक कार्यक्रम में भी शिरकत की थी. प्रसाद ने कहा कि 13 मई को मुंबई हाईकोर्ट के एक रिटायर्ड जज हैं, इन्होंने नीरव मोदी के डिफेंस विटनेस के रूप में ये स्टैंड लिया है कि नीरव मोदी के खिलाफ कोई केस नहीं है. उनको बचाने की पूरी कोशिश की गई है.