नई दिल्लीः लॉकडाउन के बीच प्रवासी मजदूरों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए कांग्रेस द्वारा बसों की व्यवस्था की बात कहे जाने के बाद शुरू हुई राजनीति है कि गर्माती ही जा रही है. कांग्रेस द्वारा मजदूरों के लिए हजार बसों की व्यवस्था की बात पर रायबरेली से कांग्रेस विधायक अदिति सिंह (Aditi Singh) ने भी अपनी ही पार्टी की आलोचना की है और कांग्रेस (Congress) के दावे को सिरे से खारिज किया है. इस पूरे मामले को लेकर अदिति सिंह अपनी पार्टी के रुख की कड़ी आलोचना करते हुए लॉकडाउन के बीच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के काम की तारीफ भी की है. Also Read - 69000 Teacher Recruitment: यूपी शिक्षक भर्ती पर रोक लगने पर बोलीं प्रियंका गांधी- एक बार फिर युवाओं के सपनों पर ग्रहण लग गया

इस पूरे मामले पर अपनी ही पार्टी को घेरते हुए अदिति सिंह ने ट्वीट किया है, जिसमें उन्होंने लिखा है, ‘आपदा के वक्त ऐसी निम्न सियासत की क्या जरूरत,एक हजार बसों की सूची भेजी, उसमें भी आधी से ज्यादा बसों का फर्जीवाड़ा, 297 कबाड़ बसें, 98 आटो रिक्शा और एबुंलेंस जैसी गाड़ियां, 68 वाहन बिना कागजात के, ये कैसा क्रूर मजाक है, अगर बसें थीं तो राजस्थान,पंजाब, महाराष्ट्र में क्यूं नहीं लगाई.’ Also Read - 12 साल की बच्‍ची ने बचत के पैसों से प्रवासी मजदूरों को फ्लाइट से झारखंड भेजने का किया इंतजाम

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा है, ‘कोटा में जब UP के हजारों बच्चे फंसे थे तब कहां थीं ये तथाकथित बसें, तब कांग्रेस सरकार इन बच्चों को घर तक तो छोड़िए, बॉर्डर तक ना छोड़ पाई, तब श्री योगी आदित्यनाथ जी ने रातों रात बसें लगाकर इन बच्चों को घर पहुंचाया, खुद राजस्थान के सीएम ने भी इसकी तारीफ की थी.’ बता दें इससे पहले भी अदिति सिंह ने कांग्रेस से अलग कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने पर अपने विचार रखे थे और केंद्र सरकार के फैसले का समर्थन किया था.