बेंगलोर: ईगल्‍टन रिसॉर्ट की सुरक्षा हटाने और इसके बाद बीजेपी खेमे द्वारा विधायकों को खरीदने की कोशिशों के बीच कांग्रेस और जेडीएस गठबंधन ने अपने विधायकों को यहां से दूसरी जगह शिफ्ट कर लिया. जानकारी के मुताबिक गठबंधन के कुछ विधायक कोच्चि और कुछ हैदराबाद भेजे गए हैं.

येदियुरप्‍पा सरकार ने गुरुवार शाम बेंगलोर के ईगल्‍टन रिसॉर्ट से सुरक्षा व्‍यवस्‍था हटा ली. इसी रिसॉर्ट में के विधायक ठहरे हुए थे. कांग्रेस और जेडीएस ने आरोप लगाया है कि सुरक्षा हटाने के बाद बीजेपी की ओर से विधायकों से फिर से दोबारा संपर्क किया गया. कांग्रेस विधायक रामलिंगा रेड्डी ने क‍हा कि बीजेपी के लोग रिसॉर्ट के अंदर आए और विधायकों को पैसों का लालच दिया. उनसे फोन पर भी संपर्क करने की लगातार कोशिश करने का आरोप उन्‍होंने लगाया. उन्‍होंने यह भी कहा था कि कांग्रेस विधायकों को कहीं दूसरी जगह ले जाया जा सकता है.

इससे पहले येदियुरप्‍पा सरकार ने बेंगलोर के पुलिस प्रशासन में बड़ा बदलाव करते हुए चार आईपीएस अधिकारियों के तबादले किए. इसके बाद ईगलटन रिसॉर्ट से सुरक्षा हटा ली गई. कांग्रेस के विधायकों को कहां ले जाया जाएगा, अभी इसका फैसला नहीं किया गया है.

इस बीच जेडीएस नेता एच डी कुमारस्‍वामी ने कहा है कि बीजेपी खुलेआम संविधान का उल्‍लंघन कर रही है. उनके सारे विधायक साथ हैं. उनकी पार्टी ने अब तक फैसला नहीं किया है, लेकिन राष्‍ट्रपति भवन के सामने प्रदर्शन भी विकल्‍पों में शामिल है.

गुरुवार शाम ईगलटन रिसॉर्ट से पुलिस सुरक्षा हटाए जाने के बाद ही कांग्रेस विधायकों को दूसरी जगह ले जाने की चर्चाएं होने लगी थीं. लेकिन कोई कुछ खुलकर नहीं बता रहा था. कांग्रेस विधायक एस टी सोमशेखर ने पहले बताया कि विधायक फिलहाल कहीं नहीं जा रहे, वे यहीं रहेंगे. शाम 7.30 बजे मीटिंग में इस पर विचार किया जाएगा. इसके बाद रामलिंगा रेड्डी ने यह तो बताया कि विधायकों को दूसरी जगह ले जाया जा रहा है, लेकिन जगह का खुलासा नहीं किया.

मंगलवार को कर्नाटक विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद से ही कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन बीजेपी खेमे द्वारा विधायकों की खरीद-फरोख्‍त की कोशिश के आरोप लगा रहा है. गुरुवार शाम को भी निवर्तमान मुख्‍यमंत्री एस सिद्धारमैया ने बीजेपी पर धनबल के इस्‍तेमाल का आरोप लगाया.