नई दिल्ली. कांग्रेस ने हरियाणा की जींद विधानसभा सीट के उपचुनाव में पार्टी के वरिष्ठ नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला को उम्मीदवार बनाया है. कांग्रेस के महासचिव मुकुल वासनिक की ओर से जारी पार्टी की विज्ञप्ति में यह जानकारी दी गई है. हरियाणा के सियासी हलकों में कांग्रेस की ओर से बुधवार की देर रात की गई इस घोषणा से हलचल तेज हो गई है. क्योंकि पार्टी की तरफ से इससे पहले रणदीप सिंह सुरजेवाला को चुनाव में उतारने के कोई संकेत नहीं दिए गए थे.

पार्टी महासचिव मुकुल वासनिक की ओर से जारी बयान के मुताबिक कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सुरजेवाला की उम्मीदवारी को मंजूरी प्रदान की. सुरजेवाला अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के मीडिया विभाग के प्रमुख हैं और वर्तमान में कैथल से विधायक भी हैं. पार्टी सूत्रों के मुताबिक लोकसभा चुनाव से पहले हो रहे जींद उपचुनाव को कांग्रेस नेतृत्व ने गंभीरता से लिया है, इसलिए अपने एक बड़े चेहरे को मैदान में उतारने का फैसला किया. गौरतलब है कि जींद सीट से विधायक हरिचंद मिड‌्ढा के निधन के बाद उपचुनाव हो रहा है. मिड‌्ढा ने इनेलो के टिकट पर 2014 का चुनाव जीता था. लंबी बीमारी के चलते पिछले साल अगस्त में उनका निधन हो गया था. जींद में 28 जनवरी को मतदान है और 31 जनवरी को नतीजे आएंगे. बृहस्पतिवार को नामांकन दाखिल करने का आखिरी दिन है.

गौरतलब है कि कांग्रेस की तरफ से महत्वपूर्ण मुद्दों पर पार्टी की राय रखने वाले रणदीप सुरजेवाला के पिता शमशेर सिंह सुरजेवाला भी अपने समय के दिग्गज राजनीतिज्ञ रहे हैं. शमशेर सिंह सुरजेवाला हरियाणा विधानसभा में पांच बार विधायक रहे. वहीं वर्ष 1993 में वे सांसद के रूप में भी चुने गए. ऐसे में रणदीप सुरजेवाला ने बचपन से ही राजनीति का ककहरा पढ़ा और बड़े होने के बाद यूथ कांग्रेस से अपनी राजनीति की शुरुआत की. वर्ष 2004 में कांग्रेस पार्टी ने उन्हें पार्टी के राष्ट्रीय संगठन में जगह दी और रणदीप सुरजेवाला को सचिव बनाया गया. वैसे आपको बता दें कि यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद तक पहुंचने वाले रणदीप सुरजेवाला पहले हरियाणवी भी हैं.

इनपुट – एजेंसी