नई दिल्ली: कांग्रेस पार्टी ने हाल ही में अपने सबसे भरोसेमंद नेता अहमद पटेल को खो दिया है. वे अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के कोषाध्यक्ष थे. उनके निधन के बाद अब एक सवाल पार्टी में सामने आ चुका है कि अब कोषाध्यक्ष की जिम्मेदारी किसे दी जाएगी. कुछ ही महीनों में पश्चिम बंगाल और असम सहित 5 राज्यों में चुनाव होने वाले हैं, ऐसे में कांग्रेस में कोषाध्यक्ष की नियुक्ति भी जल्द ही होगी. ऐसे में कांग्रेस के तीन भरोसेमंद और कद्दावर नेताओं के नाम सामने आ रहे हैं. कोषाध्यक्ष की रेस में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ, केसी वेणुगोपाल और मिलिंद देवड़ा के नाम सबसे आगे हैं.Also Read - राहुल गांधी को कुमारस्वामी का जवाबः क्षेत्रीय दलों से डर रही है कांग्रेस, इन्हीं के बूते 10 साल तक सत्ता में रही

हालांकि संभावना जताई जा रही है कि अशोक गहलोत राजस्थान की गद्दी का त्याग नहीं करेंगे, ऐसे में पार्टी के उपर संकट गहराता जा रहा है. कमलनाथ और वेणुगोपाल के नाम पर संभवत: मुहर लगाई जा सकती है. कमलनाथ के शामिल होने को लेकर मध्य प्रदेश में नए कांग्रेस अध्यक्ष की सुगबुगाहट भी तेज हो चुकी है. कमलनाथ कांग्रेस अध्यक्ष के साथ विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष का पद भी छोड़ना चाहते हैं. ऐसे में संभावना है कि कमलनाथ कोषाध्यक्ष की भूमिका में दिखे. लेकिन मिलिंद देवड़ा का नाम भी फिलहाल चर्चा में बना हुआ है. Also Read - चिंतन शिविर: भाजपा को केवल कांग्रेस हरा सकती है, राहुल गांधी के इस बयान पर नाराज हुए क्षेत्रीय दल

वहीं केसी वेणुगोपाल की बात करें तो ये फिलहाल पार्टी महासचिव हैं और संगठन की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं. पार्टी के नेताओं की माने तो राहुल गांधी इनकी इमानदारी के मुरीद है. ऐसे में कोषाध्यक्ष की भूमिका में वेणुगोपाल भी दिख सकते हैं और हो सकता है कि संगठन का प्रभार किसी और को दिया जाए. गौरतलब है कि किसी भी पार्टी में कोषाध्यक्ष की भूमिका बेहद अहम हो जाती है. यह ऐसा पद होता है जिसपर पार्टी अपने सबसे इमानदार और भरोसेमंद को ही बिठाती है. ऐसे में वेणुगोपाल की दावेदारी को कम नहीं आंका जा सकता है. Also Read - 'एक परिवार, एक टिकट' से लेकर EVM तक, कांग्रेस के तीन दिवसीय चिंतन शिविर में जानें किन-किन चीजों पर हुआ मंथन; खास बातें..