पुणे: महाराष्ट्र के पुणे पहुंचे कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता शशि थरुर (Shashi Tharoor) ने एक बार फिर केंद्र सरकार की नीतियों पर सवाल उठाए हैं. शशि थरूर पुणे अंतरराष्ट्रीय साहित्य महोत्सव में भाग लेने पहुंचे. यहां उन्होंने देश भर में हो रही मॉब लिंचिंग पर बात की. Also Read - Tandav में शिव बने ज़ीशान अय्यूब ने कहा- मैं बहुत हठिया आदमी हूं मैं किसी की नहीं सुनता

उन्होंने कहा कि पिछले 6 वर्षों में हमने देखा कि पुणे के रहने वाले मोहिसन खान की हत्या कर दी गई. उसके बाद बीफ तस्करी के नाम पर मोहम्मद अखलाक की हत्या कर दी जाती है. लेकिन बाद में पता चलता है कि मोहम्मद अखलाक के पास बीफ था ही नहीं और अगर उसके पास बीफ होता भी तो उसकी हत्या का अधिकार भीड़ को किसने दिया.

उन्होंने आगे कहा ‘पहलू खान दूध उत्पादन के लिए अपनी लॉरी में गायों को लेकर जा रहा था. उसके पास गायों को ले जाने का लाइसेंस भी था. बावजूद इसके भीड़ द्वारा उसकी हत्या गौतस्करी के नाम पर कर दी गई. एक चुनाव परिणाम ने इस तरह के लोगों को क्या इतना अधिकार दे दिया है कि ये किसी की भी हत्या कर देते हैं.’

बातचीत में उन्होंने आगे कहा ‘क्या ये हमारा भारत है, क्या हिंदू धर्म किसी की हत्या को जायज ठहराता है? मैं खुद एक हिंदु हूं लेकिन मैं उन लोगों जैसा नहीं जो जबरदस्ती जय श्री राम के नारे लगवाते हैं और उनकी हत्या कर देते हैं’. भगवान राम के नाम पर लोगों की हत्या करने वाले हिंदू धर्म और भगवान राम का अपमान कर रहे हैं.’