नई दिल्ली. कैंब्रिज एनालिटिका मामले में रोज नया खुलासा हो रहा है. बीजेपी और कांग्रेस इस मुद्दे पर एक दूसरे पर लगातार आरोप लगा रही हैं. कांग्रेस शुरू से कैंब्रिज एनालिटिका से किसी भी तरह के संबंध होने की बात से इनकार करती रही है. लेकिन पत्रकार और टेक ब्लॉगर जेमी बर्लेट की एक डॉक्यूमेंट्री वायरल हो रही है, जिसमें कैंब्रिज एनालिटिका के दफ्तर में कांग्रेस का चुनाव चिन्ह दिख रहा है. इसके सामने आने के बाद स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी पर निशाना साधा है.Also Read - सीबीआई ने डाटा चोरी को लेकर फेसबुक और कैंब्रिज एनालिटिका से डेटा कलेक्शन के तरीके का ब्योरा मांगा

सिक्रेट ऑफ सिलिकॉन के नाम से बनी डॉक्यूमेंट्री में दिख रहा है कि बर्लेट कैंब्रिज एनालिटिका के तत्कालीन सीईओ एलेग्जेंडर निक्स के साथ लंदन में उनके दफ्तर में मीटिंग कर रहे हैं. बता दें कि फेसबुक डेटा लीक मामले में निक्स को सस्पेंड कर दिया गया है. इस वीडियो में दिख रहा है कि जब बर्लेट निक्स के कमरे में घुस रहे हैं तो निक्स खड़े होकर उनका स्वागत करते हैं. Also Read - 'चुनाव में ब्लैक मनी रोकने में कानून सक्षम नहीं, सरकारी पैसे से चुनाव कराने पर विचार कर रहा आयोग'

Also Read - फेसबुक ने कर्नाटक चुनाव से शुरू किया फेक न्यूज रोकने का अभियान

निक्स के दफ्तर में दिख रहा है कांग्रेस का पोस्टर
इस दौरान निक्स के दाहिनी तरफ नीचे की ओर दीवाल पर एक पोस्टर दिख रहा है. यह कांग्रेस पार्टी के ‘हाथ’ का सिंबल है. इस ‘हाथ’ के नीचे बोल्ड लेटर में ‘कांग्रेस’ लिखा है. इस पोस्टर में डवलपमेंट फॉर ऑल (सबका विकास) लिखा हुआ है. बर्लेट की यह डॉक्यूमेंट्री अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के चुनाव अभियान की जांच में शामिल है. इसने कई लोगों का इंटरव्यू लिया है, जिसमें निक्स भी शामिल हैं. हालांकि, निक्स भारत में कैंब्रिज एनालिटिका के काम करने पर कोई जवाब नहीं दे रहे हैं और सिर्फ ट्रंप के कैंपेन पर बात कर रहे हैं. लेकिन उनके दफ्तर के पीछे कांग्रेस का पोस्टर यह दर्शा रहा है कि एक बड़े क्लाइंट का काम लेने पर वह गर्व महसूस कर रहे हैं.

स्मृति ईरानी ने साधा निशाना
इस वीडियो के सामने आने के बाद केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस पर निशाना साधा है. उन्होंने एक अंग्रेजी अखबार की खबर को ट्वीट करते हुए लिखा है, ‘क्या बात है राहुल गांधी जी, कांग्रेस का हाथ कैंब्रिज एनालिटिका के साथ!’

बता दें कि कांग्रेस इस बात से लगातार इनकार कर रही है कि उसका कैंब्रिज एनालिटिका से किसी तरह का संबंध नहीं है. वहीं, इस कंपनी के लिए भारत में काम कनरे वाले शख्स ने बीजेपी के तार इस कंपनी से जुड़े होने की बात की है.