नई दिल्लीः पार्टी कार्यकर्ताओं की मांग के बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी उत्तर प्रदेश में अमेठी के अलावा कर्नाटक की एक सीट से भी लोकसभा चुनाव लड़ सकते हैं. कांग्रेस कार्यकर्ताओं की मांग है कि राहुल को दक्षिण भारत की एक सीट से भी उम्मीदवार बनना चाहिए. 2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी दो सीटों वाराणसी और वडोदरा से चुनाव लड़ा था. जानकारों का मानना है कि कर्नाटक में जेडीएस के साथ गठबंधन के बाद वहां कांग्रेस की स्थिति काफी मजबूत दिख रही है.

वह वहां की 28 में 20 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. इसके अलावा पड़ोसी तमिलनाडु में भी वह डीएमके के साथ गठबंधन करने में कामयाब रही है. वह वहां की 10 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. राहुल के कर्नाटक से चुनाव लड़ने के पीछे की रणनीति दक्षिण भारत के सभी पांचों राज्यों में कांग्रेस कार्यकर्ताओं में ऊर्जा भरने की है.

लोकसभा चुनाव 2019: रिवर शो के जरिए चुनावी दरिया पार करेंगी प्रियंका! इस तरह मोदी के गढ़ में लेंगी एंट्री

इससे पहले 1999 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी को पुर्जीवित करने के लिए तत्कालीन अध्यक्ष और राहुल गांधी की मां सोनिया गांधी ने भी अमेठी के अलावा कर्नाटक की बेल्लारी सीट से चुनाव पड़ा था. वह चुनाव काफी दिलचस्प था. भाजपा ने मौजूदा विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को उस वक्त सोनिया गांधी को टक्कर देने के लिए बेल्लारी भेजा था. सोनिया और सुषमा के बीच हुए लोकसभा चुनाव ने खूब सुर्खियां बटोरी थी. राहुल गांधी की दादी और पूर्व पीएम दिवंगत इंदिरा गांधी ने भी एक बार कर्नाटक से चुनाव लड़ा था. इंदिरा गांधी 1978 के चुनाव में कर्नाटक के चिकमगलूर से लोकसभा चुनाव जीता था.

(इनपुट-एजेंसी)