गोवाः गोवा कांग्रेस ने शनिवार को एक प्रस्ताव पारित करके उन 13 विधायकों के पार्टी में फिर से शामिल करने पर रोक लगा दी है जो कुछ महीने पहले सत्तारूढ़ भाजपा में शामिल हो गए थे. उनमें से कई को प्रमोद सावंत सरकार में मंत्री बनाया गया है. Also Read - Halal or Jhatka Meat: मांस 'हलाल' है या 'झटके' का, ये बताना अनिवार्य, अफसरों बोले- खाने वालों को जानने का हक़

Also Read - Madhya Pradesh: 'Tandav' के खिलाफ दो शहरों में FIR, बीजेपी नेता ने उद्धव ठाकरे को भेजा पत्र

प्रदेश अध्यक्ष गिरीश चोडनकर की अध्यक्षता में प्रदेश कांग्रेस की कार्यकारिणी की बैठक में यह निर्णय किया गया. चोडनकर ने कहा कि इसी तरह के प्रस्ताव पार्टी की उत्तर और दक्षिण गोवा जिला समितियों ने भी पारित किए हैं. Also Read - रेप के आरोपों का सामना कर रहे Dhananjay Munde के खिलाफ कार्रवाई को लेकर NCP प्रमुख शरद पवार ने कही यह बात..

ड्रैगन और हाथी का उल्लास मनाना ही चीन और भारत का एक मात्र सही विकल्प है: शी जिनपिंग

उन्होंने कहा कि प्रस्ताव को अखिल भारतीय कांग्रेस समिति को भेजा जाएगा. साल 2017 में हुए विधानसभा चुनाव के नतीजों में कांग्रेस सबसे बड़ा दल था और उसे 17 सीटें मिली थी, लेकिन कई विधायकों के भाजपा में चले जाने की वजह से आज उसके केवल पांच विधायक रहे गए हैं. प्रदेश अध्यक्ष के इस निर्णय के बाद से गोवा की राजनीति में एक बार फिर से नया मोड़ आया है.

पाकिस्तानी पीएम इमरान खान को लगा ‘आजादी मार्च’ से डर, मौलाना से बातचीत को तैयार

हाल ही में कांग्रेस विधायक अलेक्सियों रेजीनाल्डो के जन्मदिन पर गोवा के बंदहगाह मंत्री माइकल लोबो भी शामिल हुए थे जिसके बाद यह माना जा रहा था कि अलेक्सिओ भी भाजपा में शामिल हो सकते हैं लेकिन जब इस बारे में मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत से पूछा गया था तो उन्होंने इससे इंनकार कर दिया था.