नई दिल्ली। कर्नाटक में बी एस येदियुरप्पा को शपथ दिलाए जाने के बाद कांग्रेस ने बीजेपी और बीएस येदियुरप्पा पर जमकर हमला बोला. कांग्रेस ने कहा कि बीजेपी नेता ‘एक दिन के मुख्यमंत्री’ हैं और राज्यपाल द्वारा संविधान का एनकाउंटर किए जाने के विरोध में कल पूरे देश में ‘प्रजातंत्र बचाओ दिवस’ मनाया जाएगा. पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने संवाददाताओं से कहा कि येदियुरप्पा एक दिन के मुख्यमंत्री साबित होंगे. सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि येद्दियुरप्पा द्वारा राज्यपाल को दिया गया पत्र शुक्रवार साढ़े 10 बजे अदालत के समक्ष पेश किया जाए. येद्दियुरप्पा सिर्फ 104 विधायकों के समर्थन से सरकार बनाने का दावा कैसे कर सकते हैं. Also Read - पीएम मोदी के बयान से 'विस्तारवादी' चीन को लगी मिर्ची, कहा- 'हमने 12 पड़ोसी देशों के साथ सीमा विवाद सुलझाया'

लोकतंत्र की दिनदहाड़े हत्या- कांग्रेस

उन्होंने आरोप लगाया कि एक दिन के मुख्यमंत्री येदियुरप्पा भाजपा कार्यकर्ता के तौर पर काम कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि वजुभाई ने लोकतंत्र के वजूद की दिनदहाड़े हत्या कर डाली. पहले नरेंद्र मोदी के लिए उन्होंने विधानसभा की सीट का त्याग किया था और कल संविधान और लोकतंत्र का त्याग कर दिया. सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि राज्यपाल ने पहले सरकार बनाने का आमंत्रण दिया तो संविधान का एनकाउंटर शुरू किया था और आज एक अल्पमत वाली पार्टी के नेता को शपथ दिलाकर एनकाउंटर पूरा कर दिया.

कर्नाटक में मिले झटके की भरपाई के लिए कांग्रेस का ‘गोवा प्लान’, RJD भी आई साथ

उन्होंने कहा कि हम नरेंद्र मोदी, अमित शाह और येदियुरप्पा को चुनौती देते हैं कि आप कल ही विधानसभा में बहुमत साबित करिए. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने फैसला किया है कि शुक्रवार को पार्टी ‘प्रजातंत्र बचाओ दिवस’ मनाएगी. सभी जिला मुख्यालयों और राज्य मुख्यालयों पर धरना-प्रदर्शन किया जाएगा. जनता को बताया जाएगा कि कर्नाटक में किस तरह से सत्ता के लालच में ‘लोकतंत्र की हत्या’ की गई है.

गोवा-मणिपुर की सरकारें इस्तीफा दें

सुरजेवाला ने कहा कि इस देश में एक संविधान और एक ही कानून होगा. अगर सबसे बड़ी पार्टी का तर्क बीजेपी के लोग दे रहे हैं तो सबसे पहले बिहार, गोवा और मणिपुर की सरकारों को इस्तीफा दे देना चाहिए. येदियुरप्पा को आज राज्यपाल ने मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई. बुधवार रात सुप्रीम कोर्ट ने येद्दियुरप्पा के शपथ ग्रहण पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था.

राज्यपाल वजुभाई वाला ने बुधवार को येदियुरप्पा को सरकार बनाने का न्यौता दिया था. इसके बाद रात में ही कांग्रेस ने शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया था. गौरतलब है कि राज्य में किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है. ऐसे में प्रदेश की 224 सदस्यीय विधानसभा में 222 सीटों पर हुए चुनाव में भाजपा को 104, कांग्रेस को 78 और  जेडी(एस) को 38 सीटें मिली हैं. फिलहाल, बहुमत के लिए जादुई आंकड़ा 112 है.