नई दिल्लीः चुनाव रूझानों में कांग्रेस के सबसे बड़े दल के रूप में उभरने के साथ पार्टी ने मेघालय में सरकार के गठन की संभावनाएं तलाशने के लिए शनिवार को अपने दो वरिष्ठ नेताओं को राज्य के दौरे के लिए रवाना कर दिया है. सूत्रों के मुताबिक वरिष्ठ कांग्रेस नेता अहमद पटेल और कमलनाथ पूर्वोत्तर के राज्य में सरकार गठन के लिए निदर्लीय उम्मीदवारों के साथ गठजोड़ की दिशा में काम करने के लिए शनिवार सुबह शिलांग रवाना हो गए. कांग्रेस इस समय मेघालय में सत्तारूढ़ है और राज्य के अधिकतर सीटों के मौजूदा रूझान के मुताबिक उसके राज्य में सबसे बड़े दल के रूप में उभरने की संभावना है. Also Read - यूपी के मंत्री ने कहा- कांग्रेस ने भ्रम फैलाकर पाया वोट, पछता रहे हैं मध्यप्रदेश के लोग

कांग्रेस की पूर्व में इस बात को लेकर आलोचना हो चुकी है कि पार्टी दो राज्यों गोवा एवं मणिपुर में सबसे बड़े दल के रूप में उभरने के बावजूद शुरुआत में निष्क्रिय रही और वहां सरकारों के गठन में नाकाम रही.सूत्रों ने बताया कि दोनों नेता दोपहर बाद शिलांग पहुंचेंगे और वहां निवर्तमान मुख्यमंत्री मुकुल संगमा सहित पार्टी के नेताओं के साथ चर्चा करेंगे. Also Read - एमएनएफ के प्रमुख जोरमथंगा ने ली मिजोरम के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ

यह भी पढ़ेंः इन ‘कांग्रेसियों’ के दम पर पूर्वोत्तर में खूब ‘फल-फूल’ रही है बीजेपी Also Read - सवाल- केंद्र की राजनीति में जाने वाले हैं? 15 साल मुख्यमंत्री रहे रमन सिंह का जवाब- 'यहीं हूं मैं'

दोनों सीटों से जीते सीएम
मेघालय के मुख्यमंत्री और कांग्रेस उम्मीदवार मुकुल संगमा अम्पति और सोंगसाक दोनों विधानसभा सीटों से जीत गए. चुनाव आयोग के सूत्रों के मुताबिक 2010 से राज्य के मुख्यमंत्री पद पर आसीन संगमा ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी बीजेपी उम्मीदवार बकुल सी हजोंग को 6,000 से ज्यादा वोटों से हराकर अम्पति सीट बरकरार रखी. वह सोंगसाक सीट पर भी जीत गए जहां उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी एनपीएफ (नेशनल पीपुल्स पार्टी) उम्मीदवार एन डी शिरा को 1,300 से ज्यादा वोटों से हराया.

यह भी पढ़ेंः त्रिपुरा चुनाव परिणामः इन 5 कारणों से समझें, शून्य से सत्ता तक कैसे पहुंची बीजेपी

बीजेपी तीसरे स्थान पर रही. सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री की पत्नी दिक्कांची डी शिरा भी महेंद्रगंज सीट से जीत गईं. उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी बीजेपी उम्मीदवार प्रेमानंद कोच को 6,000 से ज्यादा वोटों से हराया. 60 सदस्यीय विधानसभा की 59 सीटों के लिए गत 27 फरवरी को चुनाव हुए थे.