नई दिल्ली: कांग्रेस ने बुधवार को ई-सिगरेट पर प्रतिबंध लगाने के सरकार के फैसले का स्वागत किया, हालांकि उसने यह आरोप भी लगाया कि अर्थव्यवस्था की खराब स्थिति से ध्यान भटकाने के लिए मोदी सरकार इस तरह की घोषणाएं करती है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने ट्वीट कर कहा, ‘‘ वित्त मंत्री ने एक और बड़ी घोषणा की है. निश्चित तौर पर सरकार का मकसद सिर्फ यह है कि सुर्खियां बनाकर अर्थव्यवस्था में सुस्ती की दयनीय स्थिति से ध्यान भटकाए जाए.’’

अमेरिका में ‘महामारी’ बन चुका है ई-सिगरेट का ट्रेंड, भारत में बैन, जानें ये क्‍या बला है?

पार्टी के वरिष्ठ प्रवक्ता अजय माकन ने संवाददाताओं से कहा, ‘ई सिगरेट पर प्रतिबंध का हम स्वागत करते हैं. लेकिन हम यह भी पूछना चाहते हैं कि क्या सरकार तंबाकू वाले सिगरेट और पान मसाले पर भी प्रतिबंध लगाएगी?” उन्होंने कहा, ‘‘अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दो दिन पहले ही कहा है कि ई सिगरेट पर प्रतिबंध होना चाहिए. ऐसे में मोदी जी अगर उनके बयान से पहले कह देते तो हम लोग भी ये सोचते कि वो यह सब डोनाल्ड ट्रंप को खुश करने के लिए नहीं कह रहे हैं.’’

ई-सिगरेट, ई-हुक्का पीना अब बड़ा अपराध, पहली बार पकड़े जाने पर एक साल की जेल या एक लाख का जुर्माना

गौरतलब है कि सरकार ने बुधवार को इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट यानी ई- सिगरेट के उत्पादन, बिक्री, भंडारण और आयात- निर्यात पर रोक लगाने का फैसला किया है. इस उद्देश्य की पूर्ति के लिये अध्यादेश लाया जायेगा. इसका उल्लंघन करने पर सजा का भी प्रावधान किया गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में इस आशय का निर्णय किया गया.