नई दिल्ली: दिल्ली हिंसा (Delhi Violence) की सुनवाई करने वाले हाई कोर्ट के न्यायाधीश एस. मुरलीधर (S Muralidhar Transfer) का तबादला किए जाने पर कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. कांग्रेस नेता और मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला (Randeep Surjewala) ने कहा कि सरकार ने दिल्ली हिंसा मामले में भाजपा नेताओं को बचाने के लिए दिल्ली उच्च न्यायालय के न्यायाधीश एस मुरलीधर का तबादला किया गया है. रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि भाजपा सरकार द्वारा ‘हिट एंड रन’ का कमाल का उदाहरण, बदले की राजनीति का पर्दाफाश हो गया है. रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि ऐसा लगाता है कि न्याय करने वालों को देश में बख्शा नहीं जाएगा. Also Read - Supreme Court On Oxygen Crisis: सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेश-बताएं, दिल्ली में ऑक्सीजन सप्लाई कैसे बढ़ेगी'

दिल्ली हिंसा: पुलिस को फटकारने वाले न्यायाधीश का तबादला, BJP नेताओं के खिलाफ FIR के दिए थे आदेश Also Read - West Bengal CM Mamta Banerjee: तीसरी बार सीएम पद की शपथ लेते हीं गरजीं ममता बनर्जी- हिंसा बर्दाश्त नहीं

वहीं, क़ानून मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम की सिफारिश पर न्यायाधीश मुरलीधर का तबादला किया गया, तय प्रक्रिया का पालन किया गया है. तबादले की प्रक्रिया कई दिन पहले ही शुरू हो गई थी. Also Read - UP Gram Panchayat Chunav Results: यूपी पंचायत चुनाव में BJP को करारा झटका, सपा-बसपा के साथ चमके निर्दलीय

दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) के न्यायाधीश एस. मुरलीधर (S Muralidhar) का पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय में तबादला कर दिया गया है. सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने कुछ दिन पहले ही उनके स्थानांतरण की सिफारिश की थी. एक दिन पहले ही न्यायाधीश मुरलीधर ने दिल्ली पुलिस को हिंसा (Delhi Violence) को लेकर कड़ी फटकार लगाई थी. इस बीच मुरलीधर के तबादले की टाइमिंग पर सवाल उठाए जा रहे हैं. बता दें कि दिल्ली हाईकोर्ट में आज फिर से दिल्ली हिंसा मामले की सुनवाई होनी है.

बता दें कि हिंसा के बीच दिल्ली पुलिस भी भूमिका पर भी सवाल उठाए जा रहे हैं. तीन दिन तक हुई हिंसा के बाद अब पूर्वी-उत्तर दिल्ली में शांति है. बुधवार और रात में हिंसा की घटनाओं की खबर नहीं आई है. आज दिल्ली हिंसा मामले की हाईकोर्ट में सुनवाई होनी है. एक दिन पहले हाई कोर्ट ने पुलिस की कड़ी फटकार लगाई थी. हिंसा में तीन दिनों में 32 लोगों की मौत हो चुकी है. कई इलाकों में कर्फ्यू लगा हुआ है.